आईसीआईसीआई फाउंडेशन 2020 तक 5 लाख लोगों को प्रशिक्षण देगा - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, February 22, 2019

आईसीआईसीआई फाउंडेशन 2020 तक 5 लाख लोगों को प्रशिक्षण देगा



 ICICI Foundation to reach the milestone of training 5 lakh individuals by FY'20 since inception across the country




देहरादून। आईसीआईसीआई ग्रुप की कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) इकाई आईसीआईसीआई फाउंडेशन फॉर इनक्लूसिव ग्रोथ (आईसीआईसीआई फाउंडेशन) ने  घोषणा की कि वह वित्तीय वर्ष 2020 तक देश भर में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के 5 लाख व्यक्तियों को निःशुल्क व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करने की उपलब्धि हासिल कर लेगा। आईसीआईसीआई फाउंडेशन के अध्यक्ष  सौरभ सिंह ने आज उत्तराखंड के देहरादून में आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स (आईसीआईसीआई एकेडमी) के एक नए केंद्र का उद्घाटन करते हुए यह घोषणा की। आईसीआईसीआई एकेडमी, आईसीआईसीआई फाउंडेशन की प्रमुख पहल है जो कमजोर वर्गों के युवाओं को मुफ्त व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करती है। यह देश में आईसीआईसीआई एकेडमी का 25 वां और उत्तराखंड में पहला केंद्र है।
उत्तराखंड के  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने केंद्र का उद्घाटन किया। आईसीआईसीआई एकेडमी देहरादून में अपने केंद्र को पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल (पीपीपी) के तहत संचालित करेगी और इसका संचालन उत्तराखंड सरकार के कौशल विकास और शिक्षा विभाग के सहयोग से किया जाएगा। शुरुआती तौर पर इस केंद्र में प्रति वर्ष 550 विद्यार्थियों को ट्रेनिंग दी जाएगी। सेंटर पर ’विक्रय कौशल’ और ’कार्यालय प्रशासन’ नामक दो विषयों में निः शुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।
आईसीआईसीआई ग्रुप की समावेशी विकास को बढ़ावा देने की विरासत को आगे बढ़ाने के उद्देश्य से 2008 के आरंभ में आईसीआईसीआई फाउंडेशन की स्थापना की गई थी। आईसीआईसीआई एकेडमी के अलावा, आईसीआईसीआई फाउंडेशन रूरल सेल्फ एम्प्लॉयमेंट ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट्स (आरएसईटीआई) और विभिन्न ग्रामीण पहलों के माध्यम से व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करता है। इन पहलों के माध्यम से, आईसीआईसीआई फाउंडेशन ने अब तक 3.87 लाख लोगों को प्रशिक्षित किया है।
देहरादून केंद्र के उद्घाटन कार्यक्रम में आईसीआईसीआई फाउंडेशन के अध्यक्ष  सौरभ सिंह ने कहा, ‘आईसीआईसीआई समूह की अपने व्यापार और सीएसआर पहलों के माध्यम से देश की प्रगति में योगदान करने की एक लंबी परंपरा है। इस परंपरा के अनुरूप, हमने कौशल विकास को फोकस के एक महत्वपूर्ण क्षेत्र के रूप में मान्यता दी। इस फोकस के साथ, देश भर में कौशल प्रशिक्षण केंद्र स्थापित करने और कौशल के लिए आईसीआईसीआई एकेडमी की शुरुआत करने का विचार उभरा। हमारा प्रयास है कि समाज के कमजोर वर्गों के युवाओं को निःशुल्क, नौकरी-उन्मुख प्रशिक्षण सुनिश्चित करने के लिए उद्योगों में हमारे संबंधों का लाभ उठाते हुए एक व्यापक दृष्टिकोण के अनुसार प्रशिक्षित युवाओं को उद्योगों में रोजगार खोजने में मदद की जाए।’
‘हम पीपीपी मॉडल के तहत देहरादून में आईसीआईसीआई एकेडमी के एक नए सेंटर की स्थापना के लिए उत्तराखंड सरकार के साथ साझेदारी कर खुश हैं। हमारा मानना ​​है कि इस एकेडमी के माध्यम से निकले कौशल प्रशिक्षित युवा उत्पादक और पारिश्रमिक आर्थिक गतिविधियों में संलग्न होते हुए राज्य के विकास में योगदान देंगे।’
‘आईसीआईसीआई एकेडमी ने अब तक 1.14 लाख युवाओं को प्रशिक्षित किया है, जिनमें 46,000 महिलाएं शामिल हैं। योग्य छात्रों ने 100 फीसदी प्लेसमेंट प्राप्त किए हैं। आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स के अलावा आईसीआईसीआई फाउंडेशन फॉर इनक्लूसिव ग्रोथ 1,200 से अधिक गांवों में कौशल विकास और ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थानों (आरएसईटीआई) के माध्यम से स्थायी आजीविका को सक्षम बनाता है। कुल मिलाकर, आईसीआईसीआई फाउंडेशन ने अपनी स्थापना के बाद से अब तक 3.87 लाख लोगों को प्रशिक्षित किया है। हम वित्त वर्ष 2020 तक लगभग 5 लाख व्यक्तियों को प्रशिक्षण देने की उपलब्धि हासिल करने के करीब हैं।‘
एकेडमी के देश भर में 25 केंद्र हैं, जो 12 विषयों में मुफ्त पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं। अनुशासन हैंः विक्रय कौशल, ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशन, इलेक्ट्रिकल एंड होम एप्लायंस रिपेयर, रेफ्रिजरेशन एंड एयर कंडिशनिंग रिपेयर, सेंट्रल एयर कंडिशनिंग, पंप्स एंड मोटर रिपेयर, पेंट एप्लीकेशन टेक्निक्स, ट्रैक्टर मैकेनिक, टू एंड थ्री व्हीलर सर्विस टेक्नीशियन, रिटेल सेल्स, असिस्टेंट असिस्टेंट ब्यूटी थैरेपिस्ट और होम हेल्थ एड।
देहरादून में आईसीआईसीआई एकेडमी की मुख्य विशेषताएंः
आईसीआईसीआई एकेडमी देहरादून में अपने केंद्र को पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल (पीपीपी) के तहत संचालित करेगी और इसका संचालन उत्तराखंड सरकार के कौशल विकास और शिक्षा विभाग के सहयोग से किया जाएगा।
देहरादून केंद्र शुरुआती तौर पर प्रति वर्ष 550 विद्यार्थियों को ट्रेनिंग उपलब्ध कराएगा। दो विषयों में पाठ्यक्रम प्रदान किया जाएगाः ’विक्रय कौशल’ और ’कार्यालय प्रशासन’।
12 सप्ताह के निःशुल्क पाठ्यक्रम में उद्योग से संबंधित व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम और जीवन कौशल जैसे शिष्टाचार और व्यवहार, संचार, बुनियादी अंग्रेजी और वित्तीय साक्षरता शामिल है।
आईसीआईसीआई एकेडमी प्रशिक्षुओं को मुफ्त पोशाक, भोजन और सभी प्रासंगिक पाठ्यक्रम सामग्री भी प्रदान करेगी।
पात्रता मानदंडः 18 से 30 वर्ष की आयु के वंचित वर्ग के युवा और कम से कम मानक दसवीं उत्तीर्ण।
ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशन के पाठ्यक्रम की सामग्री तैयार करने के लिए सेंटर ने नॉलेज पार्टनर के रूप में टैली सॉल्यूशंस के साथ करार किया है, जबकि ’विक्रय कौशल’ के लिए पाठ्यक्रम और प्रशिक्षण को इन-हाउस विकसित किया गया है।
सफल प्रशिक्षुओं को हमारे राष्ट्रीय स्तर के नियोक्ताओं के नेटवर्क के माध्यम से रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।
आईसीआईसीआई फाउंडेशन अन्य ग्रामीण पहलों के माध्यम से कौशल विकास प्रशिक्षण भी प्रदान करता है। इसका उद्देश्य ग्रामीणों की आमदनी के स्तर को नए कौशल से आय के माध्यम से या उनके मौजूदा व्यवसायों में सुधार के माध्यम से सुधारना है। इसका मकसद ग्रामीणों के आय स्तर में सुधार करके उन्हें 50 से अधिक स्थानीय रूप से प्रासंगिक कौशल का प्रशिक्षण देना है। कार्यक्रम में उद्यमिता विकास पर एक मॉड्यूल भी शामिल है जो कि पाठ्यक्रम का एक अभिन्न अंग है। इस परियोजना के माध्यम से, आईसीआईसीआई फाउंडेशन ने 29 राज्यों में 1200 से अधिक गांवों में 1,91 लाख से अधिक ग्रामीणों को प्रशिक्षित किया है। इन गांवों में एक स्थायी आजीविका की उपलब्धता अब व्यक्तियों को नौकरियों की तलाश में शहरी स्थानों की ओर पलायन से हतोत्साहित करती है।
आईसीआईसीआई फाउंडेशन राजस्थान के उदयपुर और जोधपुर जिलों में आईसीआईसीआई आरएसईटीआई के तहत ग्रामीण गतिविधियां भी संचालित करता है। यह इन जिलों में दो गैर-आवासीय केंद्रों के साथ-साथ इन जिलों के भीतर विभिन्न ब्लॉकों में दो आवासीय केंद्रों का प्रबंधन करता है ताकि ग्रामीण वंचित युवाओं को कौशल प्रदान किया जा सके। केंद्र स्थानीय अर्थव्यवस्था की आवश्यकताओं के आधार पर 30 से अधिक विविध ट्रेड में कौशल प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। स्थापना के बाद से, आरएसईटीआई ने लगभग 81,000 लोगों को प्रशिक्षित किया है जिनमें से 54 फीसदी महिलाएं हैं।



   

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad