महिंद्रा फाइनेंस ने सीएसआर पहलों के जरिए महिलाओं को सशक्त बनाया - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, March 5, 2019

महिंद्रा फाइनेंस ने सीएसआर पहलों के जरिए महिलाओं को सशक्त बनाया


Mahindra Finance Women Centric CSR Initiatives

मुंबई। ग्रामीण क्षेत्रों में वित्तपोषण की सुविधा मुहैया कराने वाली भारत की प्रमुख कंपनी, महिंद्रा फाइनेंस ने महिलाओं के लिए कई ऐसे कदम उठाये हैं जिनका उद्देश्य ग्रामीण जीवन में बदलाव लाना और हमारे आसपास के समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाना है। इस प्रयास का उद्देश्य महिला समुदाय को सशक्त बनाना और उन्हें उनकी क्षमता को संपूर्ण रूप से उपयोग लाने में उनकी मदद करना है। कंपनी द्वारा सक्रियतापूर्वक स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार एवं जीविकोपार्जन, वनरोपण एवं सामुदायिक कल्याण जैसे क्षेत्रों में परियोजनाएं व पहलें लागू की जा रही हैं। महिलाओं पर केंद्रित कुछ प्रोग्राम्स निम्नलिखित हैंः

महिंद्रा फाइनेंस स्कॉलरशिप प्रोग्रामः वित्त वर्ष 2015 में शुरू किया गया, यह प्रोग्राम अभावग्रस्त स्नातकों और परास्नातक छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान करता है। इस प्रोग्राम के तहत, उन्हें प्रतिभा व साधन के आधार पर छात्रवृत्ति दी जाती है। वित्त वर्ष 2017-18 तक, इस प्रोग्राम से 8,700 से अधिक छात्र लाभान्वित हुए, जिनमें से 5480 से अधिक छात्राएं थीं।

महिलाओं के लिए चालक प्रशिक्षण प्रोग्रामः महिलाओं के लिए चार-पहिया वाहन चालक प्रशिक्षण प्रोग्राम अभावग्रस्त महिलाओं को आजीविका का अनूठा अवसर प्रदान कर उन्हें सशक्त बनाता है। इस प्रोजेक्ट से अब तक 450 से अधिक महिलाएं लाभान्वित हो चुकी हैं।

मां और बच्चे की देखभाल हेतु स्वास्थ्य सेवाः इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य किशोरियों, गर्भवती महिलाओं, नर्सिंग मदर्स व छः वर्ष से कम उम्र के बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण स्थिति में सुधार कर मां और बच्चे के स्वास्थ्य को बेहतर बनाना है। पहले वर्ष में, इस प्रोजेक्ट के तहत 2000 से अधिक महिलाओं, 6500 बच्चों और 3800 किशोरियों को सेवाएं प्रदान की गई हैं।

प्रोजेक्ट अमाचीः प्रोजेक्ट एक्शन ऑफ मोबिलाइजेशन ऑफ कम्यूनिटी हेल्थ इनिशियेटिव्स (अमाची) विभिन्न तरह के हस्तक्षेपों जैसे-स्कूल का विकास, वर्मीकंपोस्टिंग और कुपोषण जांच के जरिए गांवों को सशक्त बनाता है। पहले वर्ष में, वर्मीकंपोस्टिंग में 30 महिलाओं को प्रशिक्षण दिया गया, 229 बच्चों के कुपोषण की जांच की गई और 403 विकासदूत प्रशिक्षित किये गये।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad