मोबिक्विक ने अग्रणी महिला उद्यमियों के साथ मनाया महिला दिवस - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, March 8, 2019

मोबिक्विक ने अग्रणी महिला उद्यमियों के साथ मनाया महिला दिवस

Mobikwik Womens Day Event


नई दिल्ली। भारत के सबसे बड़े डिजिटल फाइनेन्शियल सर्विसेज़ प्लेटफॉर्म मोबिक्विक ने महिला दिवस के मौके पर अपने कार्यालय में एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें जानी-मानी महिला उद्यमियों ने इस विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किए कि कैसे महिलाएं अपने काम और जीवन के बीच संतुलन बनाए रख सकती हैं और आत्मनिर्भर एवं सफल उद्यमी बन सकती हैं। कार्यक्रम का विषय था ‘गो बिग गो ब्रेव’।
मोबिक्विक ने इस मौके पर प्रख्यात महिला दिग्गजों जैसे शिखा आहलूवालिया, सह-संस्थापक-स्टॉक बाय लव और नमिता गुप्ता, संस्थापक-एयरवेदा को आमंत्रित किया गया था, जिन्होंने कार्यक्रम के विषय ‘गो बिग गो ब्रेव’ पर अपने विचार अभिव्यक्त करते हुए महिलाओं को उद्यमिता के लिए प्रोत्साहित किया।
उद्यमियों का स्वागत करते हुए मिस उपासना टाकू, सह-संस्थापक एवं निदेशक, मोबिक्विक ने कहा, ‘‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का जश्न, हमारे कर्मचारियों की सफलता का जश्न है। हमारे पास 35 फीसदी से अधिक महिला कर्मचारी हैं और हम हमेशा से अपने कार्यस्थल पर महिला एवं पुरुष कर्मियों के बीच बेहतरीन संतुलन बनाने का प्रयास करते रहे हैं। पुरुषों की तरह महिलाओं को भी आगे बढ़ने के एक समान अवसर मिलने चाहिए। हमें अपने कार्यस्थलों को महिलाओं के लिए अनुकूल बनाना चाहिए, जहां उन्हें पर्याप्त अवसर मिलें। भारत अवसरों की भूमि है। मैं सभी युवतियों को सलाह दूंगी कि बड़े सपने देखें, अपना ज्ञान बढ़ाएं और अपनी प्रतिभा के साथ नई चुनौतियों का डटकर मुकाबला करें। आपको हमेशा अपने करियर में आगे बढ़ने और उद्यमी बनने के लिए प्रयास करने चाहिए। इससे आपको काम के बेहतर अवसर मिलेंगे और आप सभी मिलकर भारत के आर्थिक विकास में योगदान दे सकेंगे। उद्यमिता की ओर बढ़ने से महिलाएं आत्मनिर्भर बनती हैं और महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा मिलता है।’’
कार्यक्रम में बड़ी संख्या में कामकाजी महिलाओं ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम के दौरान कई इन्टरैक्टिव सत्र, प्रश्नोत्तर सत्र आयोजित किए गए, जिनमें महिला उद्यमियों ने प्रतिभागियों से सवाल पूछे। कार्यक्रम का समापन महिला सशक्तीकरण के मजबूत संदेश के साथ हुआ। कार्यस्थलों पर महिला-अनुकूल नीतियों और महिला हितों को बढ़ावा देने के उपायों पर ज़ोर दिया गया।













 



No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad