आय में वृद्धि से बाजार प्रभावित होगा, न कि सत्तारूढ़ सरकार- स्वाति कुलकर्णी - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Monday, March 25, 2019

आय में वृद्धि से बाजार प्रभावित होगा, न कि सत्तारूढ़ सरकार- स्वाति कुलकर्णी




Earnings growth will drive the market, not the govt in power, says UTI AMC's Swati Kulkarni




हम जानते हैं कि 2019 एक चुनावी साल है और फैसला दो महीने से थोड़े अधिक समय के बाद सामने आ ही जाएगा और इसके लिए सबसे अच्छा तरीका है कि आप जहां हैं, वहीं बने रहें, क्योंकि आखिरकार आय में वृद्धि से ही बाजार संचालित होगा। सरकार चाहे कोई भी बनाए, बाजार में अस्थिरता से इंकार नहीं किया जा सकता है। इसे हम यूं भी कह सकते हैं कि यदि बाजार की उम्मीदें स्थिर सरकार की हैं और हमारे पास बहुमत की सरकार है तो यह नीतिगत निरंतरता के बारे में एक तरह का आश्वासन हो सकता है और बाजार इस स्थिति को अच्छी मानेगा। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है, तो राजनीतिक स्थिरता के बारे में चिंता होना स्वाभाविक है और नीति संबंधी मुद्दों से संबंधित चिंताओं के कारण बाजार में गिरावट हो सकती है। 
इस तरह के हालात सिर्फ छोटी अवधि में ही बने रहते हैं और यदि हम दीर्घकालिक दृष्टिकोण लेते हैं, तो हमें यह समझना चाहिए कि आखिरकार यह आय वृद्धि है जो बाजारों को आगे बढ़ाती है। इसलिए, यह सबसे अच्छा है कि वित्तीय लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित किया जाए और उन लक्ष्यों के साथ हम हमेशा खडे रहें। चुनाव आते-जाते रहते हैं, लेकिन तीन-पांच साल की अवधि में चुनाव परिणाम से बाजार का व्यवहार प्रभावित नहीं होता है। त्रैमासिक आय के लिए बाजार हमेशा अस्थिर रहा है और हमने देखा है कि कुछ निश्चित क्षेत्रों में अस्थिरता हमेशा रहती है। उदाहरण के लिए, क्रूड ऑयल की कीमतों के उतार-चढाव के कारण तेल और गैस इन्वेंट्री बाजार की कमाई पर एक बड़ा प्रभाव डालती है। पिछले दो-तीन वर्षों में आय वृद्धि में बैंकों का योगदान नहीं रहा है। यह उस मान्यता और क्रेडिट लागत की वजह से था जो परिसंपत्ति गुणवत्ता की मान्यता के साथ आती है जिसे हमने देखा है।



इससे अधिक, हमें यह देखना होगा कि वैश्विक मोर्चे पर घटनाएं कैसे घट रही हैं, क्योंकि स्पष्ट रूप से उभरते बाजारों की परिसंपत्तियों के लिए एक बदलाव है कि फेडरल बैंक ने अपनी नीतियों को कुछ लचीला कर दिया है।



डॉलर-आधारित परिसंपत्तियों से अलग एक बदलाव नजर आ रहा है और शायद चुनाव के मोर्चे पर चिंता का माहौल है। पैसे को अगर किनारे पर भी कर दें, तो एक महत्वपूर्ण उभरते बाजार के रूप में भारत वापस आने की प्रतीक्षा कर रहा है, जो अन्य बाजारों की तुलना में अपेक्षाकृत बेहतर तरीके से आगे बढ़ रहा है।



दीर्घकालिक रूप से, भारत की विकास की कहानी में निश्चित रूप से एक मजबूत अपील है और हम देखेंगे कि जब भी आय बढ़ती है, तो पैसा भारत में वापस आना शुरू हो जाता है। हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा कि कमाई का रुझान किस तरह आगे बढ़ता है।



वैल्यूएशन पर, कमाई के अनुमान को देखते हुए, हम वैल्यूएशन के बेहतर वैल्यू जोन पर होने की उम्मीद कर रहे हैं और हम यहां से किसी बड़े रीरेटिंग की उम्मीद नहीं करेंगे। लेकिन हां, कमाई में वृद्धि एक ऐसी चीज है जिस पर हमें ध्यान केंद्रित करना होगा। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad