संपत्ति सृजन और कर बचत का लाभ मिलेगा​ यूटीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड (टैक्स सेविंग्स) से - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Thursday, March 7, 2019

संपत्ति सृजन और कर बचत का लाभ मिलेगा​ यूटीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड (टैक्स सेविंग्स) से



Uti mutual fund review
 नई दिल्ली। हम सब जानते हैं कि वक्त बडी तेजी से बीत जाता है और लीजिए, एक और वित्तीय वर्ष जल्द ही समाप्त होने जा रहा है, और अधिकांश करदाता अपने खातों को क्रम में रखने के बारे में घबराहट की स्थिति में होंगे। वे अपने वित्तीय सलाहकार, या चार्टर्ड एकाउंटेंट्स से संपर्क करने की योजना बना सकते हैं, ऐसे विभिन्न तरीकों की जानकारी कर सकते हैं जो उनकी कर देयता को कम करने में मदद कर सकते हैं और इस बारे में भी विचार कर सकते हैं कि कोई व्यक्ति कैसे कर के भार को कम कर सकता है। देखा जाए तो कोई भी सरकार द्वारा स्वीकार्य विभिन्न निवेश विकल्पों का उपयोग करते हुए बडी आसानी से अपने कर के बोझ को कम कर सकता है। और ऐसा ही एक सबसे प्रभावी तरीका है- इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस)।
ईएलएसएस फंड दरअसल म्यूचुअल फंड के तहत एक ऐसी श्रेणी है जो निवेशकों को निवेश के कई लाभों को हासिल करने की अनुमति देता है। ईएलएसएस म्युचुअल फंड उनके द्वारा प्रदान किए जाने वाले कर लाभों के लिए ही जाने जाते हैं। इसके अलावा, इक्विटी प्रतिभूतियों में निवेश के फायदे भी इसमें जोड़े जाते हैं। मुख्य रूप से इसी तरह के कर लाभ प्रदान करने के कारण ज्यादातर लोग पीपीएफ, एनएससी, एफडी आदि जैसे अन्य कर बचत साधनों के साथ उनकी तुलना करते हैं, लेकिन यदि आप अन्य कर साधनों के साथ इसके कई लाभों की तुलना करते हैं, तो ईएलएसएस सूची में सबसे ऊपर है। एक तरफ ईएलएसएस प्रत्येक वित्तीय वर्ष में कुल कर योग्य आय पर 1.50 लाख रुपये तक की कटौती करने में सक्षम बनाता है, वहीं दूसरी तरफ यह भविष्य की आवश्यकताओं और लक्ष्यों को पूरा करने के लिए संपत्ति के सृजन का असाधारण फायदा भी प्रदान करता है। इसके अलावा, ईएलएसएस केवल पारंपरिक कर बचत मार्ग की तुलना में सबसे कम लॉक-इन अवधि के साथ आता है। इसका लॉक-इन पीरियड सिर्फ 3 साल का होता है। यह लॉक-इन अवधि अल्पावधि में बाजार की अस्थिरता के जोखिम को कम करती है, इस प्रकार दीर्घकालिक धन सृजन पर ध्यान केंद्रित किया जा सकता है। इसका मतलब है कि कोई एक शॉट से कई लक्ष्य पूरा कर सकता है।
यूटीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड (टैक्स सेविंग्स) ऐसा ही एक ऑफर है, जो दिसंबर-1999 से खुला है। यह फंड एक इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस) है जो इक्विटी प्रतिभूतियों में निवेश करके और करों पर बचत करके मजबूत रिटर्न का दोहरा लाभ प्रदान करता है। 28 फरवरी-2019 तक 1.70 लाख यूनिट धारकों के साथ इस फंड का एयूएम 1,072 करोड रुपए से अधिक है। फंड ऐसे व्यवसायों में निवेश करने का प्रयास करता है, जिनका रिटर्न अनुपात, नकदी प्रवाह और प्रबंधन बेहतर है।
फंड को मार्केट कैपिटलाइजेशन स्पेक्ट्रम में निवेश करने वाले मल्टी कैप फंड के रूप में पहचाना जाता है। सामान्य परिस्थितियों में फंड 50 प्रतिशत से 65 प्रतिशत तक लार्ज कैप स्टॉक्स और शेष मिड और स्मॉल कैप स्टॉक्स में आवंटित करता है। लार्ज और मिडकैप शेयरों के बीच आवंटन शेयरों के सापेक्ष मूल्यांकन पर आधारित होगा। फंड आम तौर पर पोर्टफोलियो निर्माण में सेक्टर आवंटन की तुलना में बॉटम-अप स्टॉक पिकिंग रणनीति के तहत अपने पोर्टफोलियो में एक उच्च सक्रिय हिस्सा होगा।
लार्ज कैप का हिस्साः लार्ज कैप के क्षेत्र में स्टॉक पिकिंग रणनीति में व्यवसाय खरीदना शामिल है जो भविष्य में दीर्घकालिक रूप से लाभप्रदता का प्रदर्शन करना जारी रखेगा। ये कंपनियां न सिर्फ अपने दम पर निवेशक की जीवन भर की संपत्ति बनाने के लिए बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त हैं, बल्कि अपने प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में सस्टेनेबल एडवांटेज का आनंद लेती हैं या अपने क्षेत्र में एक अद्वितीय स्थान हासिल कर लेती हैं जिसके बाद उनकी अपने समकक्षों से आगे निकलने की संभावना बढ जाती है।
मिड कैप का हिस्साः फंड मुख्य रूप से मिड कैप शेयरों को लेने के लिए बॉटम-अप रणनीति का अनुसरण करता है। हरेक मिडकैप स्टॉक की अनूठी विशेषताओं पर ध्यान केंद्रित किया जाता है और संचालन के एक लंबे इतिहास के साथ कारोबारी आंकडों को परखा जाता है और निकट भविष्य में प्रदर्शन में सुधार की संभावना को भी देखा जाता है। फंड अपने व्यापार में अपेक्षित पुनरुद्धार और इसके माध्यम के लिए संभावित प्रत्यावर्तन से लाभ उठाने का प्रयास करता है।
28 फरवरी-2019 तक फंड ने लगभग 60 प्रतिशत रकम लार्ज कैप में निवेश की है और बाकी रकम को मिड और स्मॉल कैप में निवेश किया गया है। इस स्कीम की टॉप होल्डिंग कंपनियों में एचडीएफसी बैंक लिमिटेड, आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड, इंफोसिस लिमिटेड, एक्सिस बैंक लिमिटेड, आईटीसी लिमिटेड, एम्फेसिस लिमिटेड, मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड, गेल (इंडिया) लिमिटेड और आदित्य बिडला फैशन एंड रिटेल लिमिटेड शामिल हैं, जिनमें पोर्टफोलियो के कुल कॉर्पस का 44 प्रतिशत हिस्सा निवेश किया गया है।
विविधीकरण और एकीकृत अनुसंधान प्रक्रिया के आधार पर फंड पोर्टफोलियो के भीतर एक उचित मात्रा में जोखिम-वापसी विचार स्थापित करता है। फंड विविधीकरण पर जोर देते हुए लगातार रिटर्न देने का प्रयास करता है ताकि बाजार संबंधी अस्थिरता को दूर किया जा सके।
यूटीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड (टैक्स सेविंग्स) उन निवेशकों के लिए एक आदर्श फंड है, जो बड़ी राशि के पक्षपाती और रुपये तक के निवेश पर निधियों की तुलना में अल्फा जनरेशन (आउटपरफॉर्मेंस) की अपेक्षाकृत बेहतर संभावनाओं की तलाश में हैं। योजना में 1.50 लाख रुपए तक के निवेश पर आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80 सी के तहत कर लाभ हासिल किया जा सकता है।




No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad