वर्ष 2018 में 10.1 लाख न्यू-टू-क्रेडिट (एनटीसी) एमएसएमई कॉर्पोरेट उधारकर्ता जुड़े - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Thursday, April 11, 2019

वर्ष 2018 में 10.1 लाख न्यू-टू-क्रेडिट (एनटीसी) एमएसएमई कॉर्पोरेट उधारकर्ता जुड़े



Press Release_ TransUnion CIBIL- SIDBI MSME Pulse Quarterly Report signals speedier credit growth revival

ट्रांसयूनियन सिबिल - सिडबी एमएसएमई पल्स तिमाही रिपोर्ट में तीव्रतर ऋण वृद्धि रिवाइवल का संकेत 
दिसंबर’13 से दिसंबर’18 के बीच एमएसएमई उधारी में 19.3 प्रतिशत की तीव्र वृद्धि बढ़ते वित्तीय समावेशन का संकेत देती है 

मुंबई। ट्रांसयूनियन सिबिल-सिडबी एमएसएमई पल्स रिपोर्ट का पांचवां संस्करण दिखाता है कि दिसंबर’18 को समाप्त तिमाही में वाणिज्यिक ऋण वृद्धि 14.4 प्रतिशत की वर्ष-दर-वर्ष की वृद्धि के साथ बढ़ती रही है। दिसंबर’18 को भारत में कुल ऑन-बैलेंस शीट क्रेडिट एक्सपोजर 111.1 लाख करोड़ रु. रहा, जिसमें से एमएसएमई क्रेडिट 25.2 लाख करोड़ रहा जिसमें एमएसएमई संस्थाओं एवं व्यक्तियों को व्यवसाय हेतु दिये गये ऋण शामिल हैं। रिपोर्ट से पता चलता है कि कुल एमएसएमई ऋण (संस्थाओं और व्यक्तियों दोनों को) पिछले पांच वर्षों में तेजी से बढ़ा है और कुल बकाया बैलेंस 19.3 प्रतिशत के चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर (सीएजीआर) 19.3 प्रतिशत के साथ बढ़ा है। एनपीए दरों ने भी धीरे-धीरे कमी प्रदर्शित की है और बड़े सेगमेंट के एनपीए जून’18 के 20 प्रतिशत से घटकर दिसंबर’18 में 19 प्रतिशत हो गये हैं और मिड सेगमेंट के लिए एनपीए दर जून’18 के 18 प्रतिशत से गिरकर दिसंबर’18 में 16.5 प्रतिशत हो गई।
एमएसएमई पल्स, ट्रांसयूनियन सिबिल कॉमर्शियल ब्युरो आंकड़े पर आधारित तिमाही विश्लेषण रिपोर्ट है, जो 7 मिलियन से अधिक लाइव एंटिटीज से जुड़ी है जिनमें प्रोप्रायटरशिप/पार्टनरशिप संस्थाओं से लेकर सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध संस्थाएं शामिल हैं। ऋण आंकड़ों को बैंकों, एनबीएफसी, एचएफसी, कॉर्पोरेट बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों एवं अन्य विनियमित ऋणदाताओं से प्राप्त एक्सपोजर एवं प्रदर्शन ब्यौरे के साथ मासिक रूप से अपडेट किया जाता है।
इस रिपोर्ट के बारे में, सिडबी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक,  मोहम्मद मुस्तफा ने कहा, ‘‘एनपीए में गिरावट के साथ एमएसएमई ऋण की त्वरित वृद्धि इस खंड में संभावित विकास का अत्यंत आशाजनक सूचक है और इस प्रकार, यह आर्थिक वृद्धि को भी बताता है। एमएसएमई पल्स के इस संस्करण से प्राप्त निष्कर्ष न्यू-टू-क्रेडिट एमएसएमई उधारकर्ता में वृद्धि का भी संकेत देते हैं जिनसे पता चलता है कि एमएसएमई, ऋण क्षेत्र से वित्तपोषण की अधिक मांग कर रहे हैं। ये प्रवृत्तियां भारत में व्यवसाय करने की सरलता की भविष्यवाणी करती हैं, चूंकि अधिकाधिक एमएसएमई विनियमित बाजार से ऋण चाहते हैं और इससे वित्तीय समावेशन को भी आगे बढ़ाने में मदद मिलती है।’’
एमएसएमई पल्स के इस संस्करण में से एक मुख्य आकर्षण एमएसएमई क्रेडिट पर मनाया गया उधार की तीव्रता में उल्लेखनीय सुधार है। विश्लेषण से पता चलता है कि पिछले 5 वर्षों में सकल घरेलू उत्पाद के अनुपात के रूप में एमएसएमई उधार लगभग 400 आधार अंकों की वृद्धि हुई है (बीपीएस) दिसम्बर 13 में 9.6 प्रतिशत से दिसंबर 13 में 13.6 प्रतिशत तक पहुंचने के लिए। एमएसएमई ऋण की तीव्रता में तेजी से वृद्धि 130 बीपीएस और 260 बीपीएस सुधार द्वारा क्रमशः संस्थाओं और व्यक्तियों को ऋण देने में की गई है। उल्लेखनीय है कि एमएसएमई ऋण - एमएसएमई जीवी (सकल मूल्य वर्धित) द्वारा विभाजित एमएसएमई ऋण द्वारा मापा गया है - दिसम्बर’13 में 32.2 प्रतिशत से घटकर दिसम्बर’18 में 47.6 प्रतिशत हो गया है - 15.4 प्रतिशत अंक की एक ऐतिहासिक वृद्धि (पीपीएस) )। यह वृद्धि संस्थाओं को ऋण देने में 5.8 पीपीएस और व्यक्तियों को उधार देने में 9.7 पीपीएस की वृद्धि से प्रेरित है।
उधार की तीव्रता में इस वृद्धि पर टिप्पणी करते हुए, ट्रांसयूनियन सिबिल - के प्रबंध निदेशक और सीईओ सतीश पिल्लई ने कहा, “हमने पिछले कुछ वर्षों में ऋण देने में महत्वपूर्ण तेजी देखी है, लेकिन इस वृद्धि की सावधानी से निगरानी करने की आवश्यकता है क्योंकि ऋण निर्माण में तेजी से वृद्धि प्रणाली में भावी तनाव का संकेत दे सकती है। जबकि ऋणदाताओं को ऋण स्टैकिंग, उत्तोलन और ऋण निर्माण के लिए अपने पोर्टफोलियो की लगातार निगरानी करनी चाहिए, नियामकों को व्यवस्थित जोखिमों को ध्यान में रखना चाहिए। “
 पिल्लई ने आगे मुख्यधारा के क्रेडिट ब्यूरो डेटाबेस में वैकल्पिक डेटा स्रोतों को शामिल करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया, “एमएसएमई द्वारा क्रेडिट के लिए सिस्टम को अधिक तेज़ और सस्ती पहुंच सक्षम करने के लिए, क्रेडिट सूचना कंपनियों को व्यापार डेटा डेटा तक पहुंचने की अनुमति दी जानी चाहिए टीआरईडीएस से और नौकरशाहों को फैक्टरिंग / बिल छूट के बैंकों द्वारा अनिवार्य रिपोर्टिंग सक्षम करना। मुख्यधारा के ब्यूरो डेटाबेस में वैकल्पिक डेटा को शामिल करने से न केवल कई और योग्य एमएसएमई के ​​लिए वित्त के लिए ड्राइव का उपयोग करने में मदद मिलेगी, बल्कि यह क्रेडिट-जोखिम की निगरानी और निगरानी में भी सक्षम होगा। ”








No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad