92 प्रतिशत भारतीय इक्विटी बड़े पूंजीकरण फंड्स ने अपने बेंचमार्क से कम प्रदर्शन किया - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, April 2, 2019

92 प्रतिशत भारतीय इक्विटी बड़े पूंजीकरण फंड्स ने अपने बेंचमार्क से कम प्रदर्शन किया


 

मुंबई. नवीनतम एसऐंडपी इंडिसेज वर्सस एक्टिव इंडिया स्कोर कार्ड ने खुलासा किया है कि दिसंबर 2018 को समाप्त एक वर्ष की अवधि के दौरान, 92 प्रतिशत बड़ी पूंजीकरण वाले इक्विटी फंड्स, 25.6 प्रतिशत मध्यम-छोटे पूंजीकरण इक्विटी फंड्स और 81.6 प्रतिशत सरकारी बॉन्ड फंड्स ने अपने-अपने सूचकांकों के मुकाबले कमतर प्रदर्शन किया।
आकाश जैन, एसोसिएट डाइरेक्टर, ग्लोबल रिसर्च ऐंड डिजाइन, एसऐंडपी डाउ जोन्स इंडिसेज ने कहा, ‘‘10 वर्ष की अवधि में बड़े पूंजीकरण वाले इक्विटी फंड्स ने कम सरवाइवरशिप दरें प्रदर्शित की और दिसंबर 2018 को समाप्त 1-वर्ष की अवधि के दौरान निम्न स्टाइल कंसिस्टेंसी (42 प्रतिशत) प्रदर्शित किया।
10-वर्ष की अवधि में, फंड के प्रदर्शन के पहले और तीसरे चतुर्थक ब्रेक पॉइंट के बीच सक्रिय रूप से प्रबंधित लार्ज-कैप इक्विटी फंडों के लिए रिटर्न फैल गया, जो फंड रिटर्न में अपेक्षाकृत बड़े प्रसार की ओर इशारा करते हुए 3.4 प्रतिशत पर था। भारतीय इक्विटी बाजार के मिड-स्मॉल-कैप सेग्मेंट के अस्थिर रूप से अस्थिर प्रकृति के अनुरूप, सक्रिय रूप से प्रबंधित मिड-स्मॉल-कैप इक्विटी फंड के लिए फैला हुआ रिटर्न उसी अवधि में 5.3 प्रतिशत से अधिक था।
लार्ज-कैप इक्विटी फंडों के लिए परिसंपत्ति-भारित रिटर्न 10-वर्ष की अवधि में समान भारित रिटर्न की तुलना में 72 बीपीएस अधिक था। इसी अवधि के दौरान, भारतीय इक्विटी मिड / स्मॉल-कैप फंडों की परिसंपत्ति-भारित वापसी उनके बेंचमार्क, एसईएस और पी बीएसई 400 मिडस्मॉलकैप इंडेक्स से अधिक थी।
3-वर्ष की अवधि में, ईएलएसएस फंडों के 88.1 प्रतिशत ने अपने संबंधित बेंचमार्क को कम कर दिया है और 10 साल की अवधि में फंड प्रदर्शन के पहले और तीसरे चतुर्थक ब्रेक पॉइंट के बीच प्रसार 3.7 प्रतिशत था।



No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad