स्पार्क मिंडा फाउंडेशन ने रोटरी क्लब के सहयोग से दिल्ली उच्च न्यायालय में लगाई रिवर्स वेंडिंग मशीन - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, April 16, 2019

स्पार्क मिंडा फाउंडेशन ने रोटरी क्लब के सहयोग से दिल्ली उच्च न्यायालय में लगाई रिवर्स वेंडिंग मशीन



Press Release - Spark Minda Foundation with Rotary Club installs Reverse Vending Machine in Delhi High Court



नई दिल्ली। स्पार्क मिंडा फाउंडेशन (एसएमएफ) ने रोटरी क्लब, पंचशिला पार्क, दिल्ली के सहयोग से दिल्ली उच्च न्यायालय में एक अनोखी वेस्ट रीसाइक्लिंग मशीन स्थापित करके सामाजिक विकास कार्यों की दिशा में एक मील का पत्थर कायम किया है। शहर में प्लास्टिक प्रदूषण को रोकने और सतत विकास को बढ़ावा देने के लिए स्पार्क मिंडा फाउंडेशन की सीएसआर पहल के तहत यह मशाीन लगाई गई है। रिवर्स वेंडिंग मशीन  न्यायाधिपति के कार्यालय के पास लगाई गई है, जहां कोई भी प्लास्टिक की बोतल इसमें डाल सकता है और बदले में वेंडिंग मशीन प्रत्येक बोतल के लिए एक रुपये या कैश कूपन के जरिये डिस्पोजर को पुरस्कृत करेगा।
इस वेंडिंग मशीन का उद्घाटन दिल्ली हाई कोर्ट के न्यायाधीश  जस्टिस  जी एस सिस्तानी ने किया। इस अवसर पर स्पार्क मिंडा फाउंडेशन के सलाहकार  एम के पजन और मिंडा कॉर्पोरेशन लिमिटेड के डायरेक्टर  ए पी गांधी भी मौजूद रहे, जिन्होंने हाई कोर्ट परिसर में वेंडिंग मशीन लगाने में काफी सक्रिय भूमिका निभाई। अपनी तरह की यह अनूठी वेंडिंग मशीन प्लास्टिक की बोतलों, एल्यूमीनियम, या स्टील के केन को निपटाने और रीसाइक्लिंग करने में सक्षम है।
स्पार्क मिंडा फाउंडेशन समुदाय उन्नयन और परिवर्तन के सबसे नवीन तरीकों में से एक में उत्साहपूर्वक भाग ले रहा है। इस तरह की वेंडिंग मशीन स्थापित करने से आसपास के सभी लोगों को प्लास्टिक कचरे का सबसे नवीन तरीके से निपटारा करने में आसानी हो जाएगी। स्पार्क मिंडा फाउंडेशन द्वारा स्थापित की जाने वाली मशीनों में से यह पहली मशीन है, जिसे दिल्ली उच्च न्यायालय में स्थापित किया गया है। आने वाले समय में इस तरह की कुछ और मशीनांे को दिल्ली के विभिन्न हिस्सों में लगाने का फाउंडेशन का इरादा है।
रोटरी फाउंडेशन/क्लब 110 से अधिक वर्षों से कुछ महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दों को हल करने मंे जुटा है। समूह बीमारी से लड़ने, पीने के लिए स्वच्छ पानी प्रदान करने और शिक्षा और स्वच्छता का समर्थन करने जैसे सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों को लेकर बहुत आवश्यक कार्रवाई कर रहा है। उच्च न्यायालय में वेस्ट  डिस्पोजेबल मशीन की स्थापना निरंतरता और विकास को बढ़ावा देने के लिए दोनों संगठनों की तरफ से एक सहयोगी कदम है।
इस पहल की जानकारी देते हुए स्पार्क मिंडा फाउंडेशन की चेयरपर्सन  सारिका मिंडा ने कहा, “यह पहली बार है कि हमारे समूह ने सबसे सम्मानित प्रशासनिक निकायों में से एक के साथ सहयोग किया है। एक समूह के रूप में हमारा हमेशा यही विश्वास रहा है कि हमारे अस्तित्व के लिए सामाजिक विकास सबसे अभिन्न और आवश्यक हिस्सा है। हम बहुत खुश हैं कि रोटरी क्लब, पंचशिला पार्क ऐसे अनूठे तरीके से समाज की मदद करने के लिए बड़े पैमाने पर आगे आया है। हमें उम्मीद है कि हमारी इस पहल के माध्यम से नागरिकों में स्वच्छता के प्रति जिम्मेदारी की भावना और विकसित होगी और वे सरकार के ‘स्वच्छ भारत अभियान‘ का समर्थन करने के लिए अपने दायित्व को निभाएंगे।‘‘
 सारिका मिंडा की बात को आगे बढाते हुए रोटरी इंडिया/फाउंडेशन के डिस्ट्रिक्ट गवर्नर  विनय भाटिया ने कहा, ‘‘सामाजिक परिवर्तन की दिशा में स्पार्क मिंडा फाउंडेशन ने आज तक जो काम किया है, उसे देखते हुए हम बहुत प्रभावित हुए हैं। यह हमारी खुशकिस्मती है कि दिल्ली हाई कोर्ट में वेस्ट वेंडिंग मशीन कायम करने के फाउंडेशन के प्रयासों के साथ हमें भी जुड़ने का अवसर मिला है। रोटरी क्लब, पंचशिला पार्क, दिल्ली हमेशा समाज में स्मार्ट परिवर्तनों को बढ़ावा देने की दिशा में सहायक और उत्साहित रहा है। हमें उम्मीद है कि आने वाले दिनों में हमारे लिए इस तरह के कई और बदलाव लाना संभव हो सकेगा।
स्पार्क मिंडा ग्रुप, दशकों से सामुदायिक विकास पहलों में शामिल है। वाईसीपी परियोजना समूह की चौथी जेल पहल परियोजना है। एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक व्यवहार की विरासत को आगे बढ़ाते हुए ग्रुप में सीएसआर गतिविधियों को पीपल, प्लेनेट व प्रॉफिट के तिहरी-लाइन वाले मॉडल से लिया गया है। सामुदायिक देखभाल के साथ पर्यावरण स्थिरता सुनिश्चित करना विषयगत विभाजन हैं, जिसके आस-पास ग्रुप की सीएसआर गतिविधियों की योजना बनाई जाती है और उन्हें निष्पादित किया जाता है। समुदाय हमेशा लागू और सहयोगी दोनों परियोजनाओं के लिए एक हितधारक है।  सहस्राब्दी विकास लक्ष्य और कंपनी अधिनियम 2013 के तहत सीएसआर से निर्देशित, शिक्षा, व्यावसायिक प्रशिक्षण और आजीविका पदोन्नति, स्वास्थ्य और स्वच्छता, दिव्यांगजनों के समर्थन, पर्यावरण स्थिरता और महिला सशक्तिकरण आदि विषय ग्रुप के लिए प्रमुख है। सीएसआर परियोजनाओं को लागू करने के लिए, समूह ने स्पार्क मिंडा फाउंडेशन की स्थापना की है। स्पार्क मिंडा फाउंडेशन, कंपनी अधिनियम, 2013 के सैक्शन 8 तहत एक कंपनी है, जो मिंडा कॉर्पोरेशन लिमिटेड (स्पार्क मिंडा की अग्रणी मोटर वाहन घटक और प्रमुख कंपनी) की एक 100 प्रतिशत सहायक कंपनी है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad