टाटा पावर और इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड ने एकीकृत सेवाओं को पेश करने के लिये हाथ मिलाया - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Wednesday, April 3, 2019

टाटा पावर और इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड ने एकीकृत सेवाओं को पेश करने के लिये हाथ मिलाया


Tata Power and Indraprastha Gas Ltd. collaborate to offer Integrated Services


~ यह समझौता वाणिज्यिक पैमाने के ईवी चार्जिंग/ बैटरी स्वैपिंग स्टेशंस, ग्रीन एनर्जी सॉल्यूशंस, कस्टमर मैनेजमेन्ट सॉल्यूशंस; ग्राहक सेवा अवसरंचना की स्थापना पर केन्द्रित है ~

राष्ट्रीय : भारत की सबसे बड़ी एकीकृत विद्युत कंपनी टाटा पावर और भारत की सबसे बड़ी सीएनजी वितरण कंपनी इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड (आईजीएल) ने एकीकृत ग्राहक सेवा और महत्व वृद्धि के लिये नई दिल्ली में एक समझौते पर हस्ताक्षर की घोषणा की है।
समझौते पर हस्ताक्षर आईजीएल के प्रबंध निदेशक ई. एस. रंगनाथन और टाटा पावर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक प्रवीर सिन्हा ने जीएआईएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक बी. सी. त्रिपाठी की उपस्थिति में किये। इस अवसर पर टाटा पावर डीडीएल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी संजय बंगा, आईजीएल के निदेशक (वाणिज्यिक) राजीव सिक्का और टाटा पावर, टाटा पावर डीडीएल, आईजीएल एवं जीएआईएल के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित हुए।

यह समझौता कॉमन यूटिलिटी रेवेन्यू साइकल मैनेजमेन्ट और कस्टमर मैनेजमेन्ट सॉल्यूशंस में सहयोग की संभावनाएं उत्पन्न करेगा और मौजूदा एकल ग्राहक सेवा अवसंरचना के साझाकरण में मदद करेगा। जैसे आईटी सॉल्यूशंस, डाटा एनालिटिक्स,जियोग्राफिकल इंफोर्मेशन सिस्टम (जीआईएस) आधारित समाधान एससीएडीए, एडवांस्ड डीएमएस, आदि; आईजीएल के संस्थानों का एनर्जी ऑडिट और ईएससीओ (एनर्जी सर्विस कंपनी) मोड के तहत ऊर्जा क्षमता क्रियान्वयन परियोजनाएं; सीएपीईएक्स/ आरईएससीओ मोड के अंतर्गत आईजीएल के संस्थानों के लिये व्यक्तिपरक संचरना के साथ रूफटॉप सोलर प्रोजेक्ट्स की स्थापना और आवासीय, वाणिज्यिक तथा औद्योगिकी संस्थानों के लिये रूफटॉप सोलर प्रोजेक्ट्स की तलाश; आईजीएल के उपभोग के लिये भारत सरकार की कैप्टिव पॉलिसी के तहत बड़े पैमाने के सोलर ग्रुप कैप्टिव पॉवर प्रोजेक्ट्स की संयुक्त संभावना ढूंढना; अलाइड पॉवर मैनेजमेन्ट सॉल्यूशंस के साथ इलेक्ट्रिक वाहनों के लिये कमर्शियल स्केल चार्जिंग एवं/ अथवा बैटरी स्वैपिंग स्टेशंस की स्थापना;
यह समझौता भूमिगत संपदाओं (पाइप और केबल) की साझा सुरक्षा गतिविधियों को भी कवर करेगा, जिनमें पाइप और केबल का रख-रखाव और बैठाना, जमीन से नीचे और ऊपर की संपत्तियों की रूटिन पेट्रोलिंग शामिल है। दोनों कंपनियाँ जल, विद्युत और गैस के लिये विद्युत उत्पत्ति, ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क और इंटीग्रेटेड यूटिलिटी सर्विसेज में समन्वय की संभावना भी ढूंढेंगी।
इस अवसर पर जीएआईएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक बी. सी. त्रिपाठी ने कहा, ‘‘यह पहल दो अग्रणी उपयोगिता कंपनियों की ऊर्जा का साझा करेगी और परिचालन सम्बंधी क्षमता तथा ग्राहक अनुभव के लंबे समय तक बेहतर बनाएगी। दोनों कंपनियों को फ्यूल सेल टेक्नोलॉजी द्वारा बायो-गैस से विद्युत बनाने की संभावनाएं भी तलाशनी चाहिये।’’
टाटा पावर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक प्रवीर सिन्हा ने कहा, ‘‘हम आईजीएल के साथ अपनी भागीदारी की घोषणा कर प्रसन्न हैं। दोनों कंपनियों के ग्राहकों को एकीकृत सेवा प्रदान करने की दिशा में यह महत्वपूर्ण कदम है। साथ मिलकर हम स्वच्छ और हरित प्रौद्योगिकी और सेवाओं को स्मार्ट तरीके से अपनाए जाने का मार्ग प्रशस्त करेंगे, ताकि भारत पर्यावरण हितैषी और स्थायी भविष्य वाला देश बन सके।’’
आईजीएल के प्रबंध निदेशक ई.एस. रंगनाथन ने कहा, ‘‘टाटा पावर के साथ यह समझौता कई विकसित देशों की तरह ‘वन सिटी वन बिल’ की परिकल्पना की ओर एक बड़ा कदम सिद्ध हो सकता है और यह सौर ऊर्जा के क्षेत्र में आईजीएल के लिये द्वार खोलेगा।’’

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad