जीजेईपीसी द्वारा जयपुर में आयोजित सिल्वर एंड फैशन ज्वैलरी क्रेता – विक्रेता सम्मेलन में 39 देशों का आगाज - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Thursday, June 13, 2019

जीजेईपीसी द्वारा जयपुर में आयोजित सिल्वर एंड फैशन ज्वैलरी क्रेता – विक्रेता सम्मेलन में 39 देशों का आगाज

GJEPC's India Silver & Fashion Jewellery BSM witnesses Buyers from 39 Nations at Jaipur



12 से 14 जून 2019 के बीच आयोजित क्रेता – विक्रता सम्मेलन में अल्जीरिया, ऑस्ट्रेलिया, मिस्र,इंग्लैंड, आय़रलैंड, जॉर्डन, संयुक्त अरब अमीरात, संयुक्त राज्य अमेरिका, कुवैत औऱ थाईलैंड जैसे देश शामिल होंगे।


जयपुर। जेम एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसलि (जीजेईपीसी), भारत की जेम एंड ज्वैलरी उद्योग की शीर्ष निकाय द्वारा गुलाबी शहर जयपुर में इंडिया सिल्वर एंड फैशन ज्वैलरी क्रेता- विक्रेता सम्मेलन का शानदार आगाज किया गया। ज्ञात हो कि यह क्रेता-विक्रेता सम्मेलन 12 जून से 14 जून तक चलेगा । इस आयोजन का उद्घाटन जीजेईपीसी के अध्यक्ष प्रमोद कुमार अग्रवाल ने किया; निर्मल बरदिया- जयपुर, क्षेत्रीय अध्यक्ष, सिल्वर पैनल संयोजक श्री राम बाबू गुप्ता एंव अंतर्राष्ट्रीय खरीदारों के साथ – साथ भारतीय प्रर्दशकों की उपस्थिती दर्ज की गयी।

जीजेईपीसी के अध्यक्ष प्रमोद कुमार अग्रवाल ने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि “क्रेता – विक्रेता सम्मेलन का आयोजन सिल्वर ज्वैलरी उद्योग की वर्तमान व्यावसायिक जरूरतों को पूरा करने और नए व्यापार के अवसरों को स्थापित करने, मजबूत करने और वैश्विक स्तर पर व्यापार को बढ़ावा देने के उद्देश्य से किया गया है। 3 दिवसीय बिजनेस मैचिंग प्रोगाम सिल्वर ज्वैलरी के निर्माण में भारत की ताकत औऱ क्षमताओं को प्रदर्शित करने का आदर्श अवसर होगा। इसके साथ ही यह चाहे मशीन – निर्मित हो या हाथ से बनाए गए आभूषण हो अपनी विशिष्टता और शिल्प कौशल के कारण मांग में है। अच्छे डिजाइन, हीरे और रंगीन रत्नों के अधिकता से उपयोग के कारण मेड इन इंडिया सिल्वर ज्वैलरी ने धीरे – धीरे अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में अलग पहचान बनायी है, जिससे अधिक मूल्य वृद्धि हुई है। मुझे यकीन है कि खरीदारों को उनकी जरूरतों और आवश्यकताओं के अनुसार अभिनव और फैशनेबल आभूषणों की एक श्रृंखला देखने को मिलेगी। ”

अप्रैल 2018 - मार्च 2019 की अवधि के लिए सिल्वर ज्वैलरी में भारत का सकल निर्यात $ 837.81 मिलियन है।


इंडिया सिल्वर ज्वैलरी बीएसएम एक क्रेता – विक्रेता सम्मेलन का मिश्रण है और सभी आमंत्रित खरीदारों और प्रदर्शकों के बीच खुली बैठक का दिन होगा। लगभग 20 सिल्वर ज्वैलरी मैन्युफैक्चरिंग कंपनिया 39 इंटरनेशन खरीदारों के सामने अपने उत्पादकों को प्रस्तुत करेंगे। जिसमें अल्जीरिया, ऑस्ट्रेलिया, इजिप्ट, इंग्लैंड, आयरलैंड, जॉर्डन,यूएई, यूएसए, स्पेन, कुवैत, थाईलैंड के सिल्वर ज्वैलरी होलसेलर, रिटेलर्स, ट्रेडर्स और चेन स्टोर्स शामिल हैं।

इसके साथ ही, भारतीय सिल्वर सेक्टर को उनकी सोर्सिंग जरूरतों, आपूर्ति श्रृंखला, बिजनेस प्रैक्टिस और कल्चर को बेहतर तरीके से समझने का शानदार अवसर होगा। श्री प्रमोद कुमार अग्रवाल ने आगे बताया कि नए सोर्सिंग रिश्तों को स्थापित करने और विश्व स्तर पर व्यापार को बढ़ावा देने के लिए खरीदार और विक्रेता दोनों ही इस प्लेटफॉर्म का सबसे अधिक उपयोग करेंगे।

रत्न और आभूषण क्षेत्र कठिन समय से गुजर रहा है और श्री प्रमोद कुमार अग्रवाल ने निर्यात पर पड़ रहे प्रतिकुल प्रभाव और क्षेत्र के समग्र विकास पर चिंता व्यक्त की है।

जीजेईपीसी सरकार के साथ जेम एंड ज्वैलरी उद्योग को प्रभावित करने वाले बैंकिग मुद्दों पर बातचीत कर रहा है, जिसमें निधि की लागत में वृद्धि, ब्याज पर रियायत की आवश्यकता, क्रेडिट लिमिट का डॉलराईजेशन, निर्यात के बाद निर्यातकों के बीजी/ कैश मार्जिन की रिहाई का भत्ता,  गोल्ड कार्ड और कराधान के मुद्दों के लिए ईसीजीसी डब्ल्यूटीपी नीति का पुन: प्रस्तुती।

प्रमोद अग्रवाल ने कल उद्योग के बजट पूर्व प्रस्तावों को माननीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण के समक्ष प्रस्तुत किया। प्रस्तुत बिंदुओं में से कुछ निम्नलिखित हैं:
  1. हमारे उद्योग का एक ज्वलंत मुद्दा कन्साइन्मन्ट के पुन: आयात पर IGST का थोपना है जो कन्साइन्मन्ट या प्रदर्शनी मोड के माध्यम से निर्यात किया जाता है। उद्योग को उम्मीद है कि इस मुद्दे को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा।
  2. कट और पॉलिश किए हुए हीरे पर आयात शुल्क 7.5% से घटाकर 2.5%: कट और पॉलिश किए गए हीरे के आयात के आंकड़ों में कुछ विशेष विसंगतियों के कारण, हीरे पर शुल्क 2.5% से बढ़कर 5% और उसके बाद 7% कर दिया गया। उद्योग ने लगातार प्रमुखता से इस बात को प्रस्तुत किया कि पॉलिश किए गए हीरों की लौटाई गई कन्साइन्मन्ट को आयात के बड़े हिस्से के रूप में बताया गया और जिसे गलत तरीके से पकड़ा गया व रिपोर्ट बनायी गयी। पॉलिश किए गए हीरे का 93% ज्वैलरी इत्यादी का निर्माण कर वापस निर्यात किया जाता है।
  3. कीमती धातु सोने पर आयात शुल्क में 10% से 4% तक की कमी: उद्योग लंबे समय से सोने पर आयात शुल्क को यथार्थवादी स्तर तक कम करने के लिए यह अनुरोध कर रहा है। ड्यूटी में कमी निश्चित रूप से देश में आधिकारिक चैनलों के माध्यम से कच्चे माल के प्रवाह को फिर से शुरू करेगी और इस प्रकार हमारे आभूषण निर्यात को मजबूती प्राप्त होगी।
  4. मुंबई में स्पेशल  नोटिफ़िएड जोन के लिए  रीयलिस्टिक टर्नओवर टैक्सेशन  व्यवस्था: मुंबई में स्पेशल  नोटिफ़िएड जोन का उद्घाटन दिसंबर 2015 में किया गया था और तब से यह क्षेत्र सफलतापूर्वक चल रहा है। एकमात्र बड़ी बाधा यह है कि अनुकूल कराधान शासन की अनुपस्थिति में विदेशी खनन कंपनियों ने अभी तक किसी न किसी हीरे की बिक्री शुरू नहीं की है। वे अभी भी आते हैं, प्रदर्शन करते हैं और अपना माल वापस अपने देश ले जाते हैं। उद्योग इस बात का अनुरोध कर रहा है कि बेल्जियम, इज़राइल, यूएई आदि द्वारा दी जा रही विश्व स्तरीय सुविधाओं की तर्ज पर, भारत सरकार को एसएनजेड में हीरे की बिक्री पर अनुमानित कर से जुड़ी कर दर (0.125%) की शुरूआत करनी चाहिए।



No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad