ओयो इण्डिया ने पेश की पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिल - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Wednesday, August 28, 2019

ओयो इण्डिया ने पेश की पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिल

OYO India introduces its Partner Advisory Council


ओयो पार्टनर एंगेजमेन्ट नेटवर्क के तहत पहली बैठक का आयोजन किया 


नई दिल्ली,  भारत और दक्षिणी एशिया में होटल्स, होम्स एवं स्पेसेज़ की सबसे बड़ी चेन ओयो होटल्स एण्ड होम्स ने ओयो पार्टनर एंगेजमेन्ट नेटवर्क ;व्च्म्छद्ध के तहत दिल्ली में अपनी पहली पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिल बैठक का आयोजन किया। ओयो पार्टनर एंगेजमेन्ट नेटवर्क के ;व्च्म्छद्ध देश के 10,000 से अधिक प्रॉपर्टी मालिकों को सहयोग एवं समर्थन प्रदान करने के लिए ओयो की वर्तमान में जारी एकवर्षीय प्रतिबद्धता है। व्च्म्छ के तहत पहली पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिल ओयो होटल के मालिकों, ओयो इण्डिया एसए लीडरशिप और थर्ड पार्टी पॉलिसी एवं कानूनी प्रतिनिधियों को ऐसा प्लेटफॉर्म प्रदान करेगी, जिसके माध्यम से वे भारत में हॉस्पिटेलिटी के भविष्य में आने वाले छोटे-बड़े मुद्दों पर चर्चा और विचार-विमर्श कर सकेंगे।
दिल्ली में आयोजित पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिल की पहली बैठक में सदस्यों ने ओयो और प्रॉपर्टी मालिकों के बीच के संबंधों को सशक्त बनाने पर ज़ोर दिया और इस विषय पर विचार प्रस्तुत किए कि कैसे काउन्सिल प्रापॅर्टी मालिकों की उन्नति से जुड़े मामलों एवं प्रोग्रामों के लिए महत्वपूर्ण मंच की भूमिका निभाएगी। बैठक के दौरान काउन्सिल के मुख्य उद्देश्यों पर रोशनी डाली गई, और खासतौर पर ओयो को सलाह दी गई कि कारोबार को बढ़ाने और भारत के हॉस्पिटेलिटी क्षेत्र में मौजूद अवसरों का लाभ उठाने के लिए प्रॉपर्टी मालिकों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करे।
कुछ सदस्यों के सुझावों में शामिल हैंः 
 एन आर वसन, आईपीएस, पूर्व डीजी ऑफ ब्यूरो ऑफ पुलिस रीसर्च एण्ड डेवलपमेन्ट
गुणवत्ता जांच को सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर ज़ोर दिया, उन्होंने बताया कि कैसे उपभोक्ता असंतोष के सिर्फ एक मामले से सोशल मीडिया के ज़रिए उपभोक्ताओं की अवधारणा पूरी तरह बदल सकती है। उन्होंने कहा कि प्रक्रियाओं जैसे प्रोक्यूरोमेन्ट के स्टैण्डरडाइज़ेशन पर निरंतर ध्यान देना चाहिए, इससे पता चलता है कि उपभोक्ता को हमसे क्या उम्मीदें हैं।
  अमोल धीर, आगरा से प्रॉपर्टी मालिक
समय के साथ पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिल के स्थानीय चैप्टर्स की स्थापना की सलाह दी, ताकि प्रॉपर्टी मालिक इसके माध्यम से अपना फीडबैक दे सकें, अपनी लर्निंग और प्रैक्टिसेज़ को साझा कर सकें। इससे जानकारी के आदान-प्रदान को बढ़ावा दिया जा सकेगा, ओयो के बारे में गलत अवधारणाओं को रोका जा सकेगा और प्रापॅर्टी मालिकों की भूमिका और ज़िम्मेदारी को समझने में मदद मिलेगी।
वी.के. दुग्गल, आईएएस, पूर्व गृह सचिव और मणिपुर एवं मिज़ोरम केे पूर्व गवर्नर
उन्होंने कहा कि एजेंडा में न केवल प्रमुख प्रॉपर्टी मालिकों के मुद्दों (साझेदार स्तर पर) फोकस करना चाहिए, बल्कि ज़िला, राज्य एवं केन्द्र में नीतिगत एवं प्रशासन के स्तर पर ऐसे कारकों पर भी ध्यान देना चाहिए जो पर्यटन एवं हॉस्पिटेलिटी को प्रभावित कर सकें। श्री दुग्गल ने कहा कि एक पूर्व बैठक के द्वारा उचित एजेंडा बनाया जा सकता है। उन्होंने सुझाव दिया कि एक न्यूज़लैटर के माध्यम से पीएसी सदस्यों को प्रगति एवं बाधाओं के बारे में अपडेट किया जा सकता है।
 अरूप बोर्थाकुर, जोरहाट, आसाम से एक प्रॉपर्टी मालिक
उन्होंने कुछ प्रमुख क्षेत्रों पर रोशनी डाली जैसे स्टाफ के प्रबंधन के लिए होटल मैनेजर के प्रबंधन की आवश्यकता। उन्होंने जगरुकता गतिविधियों के माध्यम से कैपिटल ओ को अधिक विभेदित ब्राण्ड बनाने की आवश्यकता पर ज़ोर दिया।
 विनोद जुत्शी, आईएएस, पूर्व सचिव, पर्यटन मंत्रालय
 जुत्शी ने आर एण्ड डी, गुणवत्ता में अंतर के विश्लेषण पर निंरत काम करने की आवश्यकता पर ज़ोर दिया, उन्होंने कहा कि सरकारी प्रोग्रामों जैसे स्वदेश दर्शन योजना पर काम करना और अन्य सरकारी योजनाओं में योगदान देना ज़रूरी है। उन्होंने कहा कि कीमत प्रतिस्पर्धा एक ताकत है, जिसे ओयो को बढ़ावा देना चाहिए, क्योंकि यह भारत के हॉस्पिटेलिटी क्षेत्र की ताकत है, विदेशी यात्रियों को आकर्षित करने के लिए मुख्य विशेषता है। 
रवि टाक, जयपुर से प्रॉपर्टी मालिक
कारोबार बढ़ाने के लिए विदेशी यात्रियों को आकर्षित करने (खासतौर पर हेरीटेज प्रॉपर्टीज़ के लिए) पर ज़ोर दिया। 
व्च्म्छ के मुख्य स्तंभों नामतः बिज़नेस, विकास, एंगेजमेन्ट एवं रिकॉग्निशन तथा इनमें से हर स्तंभ के लिए ओयो की विभिन्न पहलों पर रोशनी डालते हुए आदित्य घोष, सीईओ, इण्डिया एण्ड साउथ एशिया ने कहा‘‘
ओयो इण्डिया के पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिल की पहली बैठक में दिए गए सुझावों और चर्चा के दौरान कई मुख्य पहलुओं पर ज़ोर दिया गया। सुधार के मुख्य क्षेत्रों को पहचानने तथा विभिन्न गतिविधियों के लिए सशक्त योजना बनाने जैसे समर्पित होटल प्रबंधन संसाधनों का प्रावधान, मिड-मार्केट ब्राण्ड्स के लिए ब्राण्ड जागरुकता में सुधार और गुणवत्ता जांच में निवेश आदि के द्वारा पहले से बहुत अधिक प्रगति की जा चुकी है। हम सितम्बर में आयोजित अगली बैठक में अपडेट्स साझा करेंगे और सुधार के मुख्य क्षेत्रों पर रोशनी डालेंगे।’’
पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिल ओयो पार्टनर एंगेजमेन्ट नेटवर्क एक अनूठी पहल है, जो देश भर में 10000 से अधिक प्रॉपर्टी मालिकों को उनके कारोबार लक्ष्यों को हासिल करने में  मदद करने के लिए शुरू किया गया उद्योग जगत का पहला असेट ओनर और फ्रैंचाइज़ पार्टनर प्रोग्राम है। इस चर्चा के तहत पार्टनर अडवाइज़री काउन्सिलके सदस्यों को एक दूसरे के सुझाव सुनने तथा प्रॉपर्टी मालिकों की सफलता के लिए उत्कृष्ट प्रणाली के निर्माण पर चर्चा का अवसर मिला।
ओयो पार्टनर एंगेजमेन्ट नेटवर्क  के तहत ओयो अब तक कई गतिविधियों का लॉन्च कर चुकी है, जिसमें शामिल है- एक समर्पित माइक्रोसाईट, प्रॉपर्टी मालिकों के लिए को-ओयो ऐप, कैश इन बैंक बिज़नेस अडवान्स (होटल मालिकों को रु 45 करोड़ से अधिक का वितरण किया जा चुका है और रु 170 करोड़ का वितरण की योजना बनाई गई है) तथा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले  होटल मालिकों को रिवॉर्ड और सम्मान देने के लिए अखिल भारतीय पार्टनर प्रीविलेज प्रोग्राम।




No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad