त्यौहारों के लिए घरों को तैयार रखें - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, October 11, 2019

त्यौहारों के लिए घरों को तैयार रखें


Doctor fixit



डॉ. फिक्सिट  के डॉ. संजय बहादूर के विचार
यथोचित अभिवादन!!
मानसून का समय समाप्त हो चुका है, त्यौहारों का मौसम शुरू हो गया है और यह समय होता है, घरों में मरम्मत का काम शुरू करने का। मानसून के दौरान सामान्य तौर पर घरों को नुकसान पहुंचता ही है। लगातार सीलन और रिसाव के चलते दीवालों और छतों पर रिसाव के निशान बन जाते हैं; एक समय के पेंट्स पपड़ी छोड़ना शुरू कर देते हैं। यही नहीं, नमी के चलते महंगे इंटीरियर्स को नुकसान पहुंचता है।
गृहस्वामियों और हाउसिंग सोसायटीज के लिए यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि वे मानसून के चलते हुए नुकसान की मरम्मत कराएं। इसके कई व्यावहारिक कारण भी हैं, जैसे-सीलन भरी दीवारों के चलते पैदा होने वाली बीमारियों की रोकथाम या यह सुनिश्चित करना कि आपके घर की संरचना कमजोर न हो। फिर, इसके बाद घर  की सुंदरता से जुड़े कारण हैं, क्योंकि यह त्यौहारों का मौसम है और कौन यह चाहेगा कि मेहमानों को रिसती दीवारें, दीवालों और छतों पर भिंगने के निशान और हवा में सीलन की गंध का सामना करना पड़े। कुल मिलाकर, आपकी प्रतिष्ठा दांव पर लगी होती है!
डॉ. फिक्सिट आपको कुछ आसान सुझाव देता है जिसकी मदद से आप अपने घरों को त्यौहारों के लिए तैयार रख सकते हैंः
1ण्    सीलन वाली जगहों पर तुरंत ध्यान देने की आवश्यकता होती हैः सीलन एक सामान्य समस्या है, जो हर जगह घरों को प्रभावित करता है। किसी पेशवर की मदद से, सीलन और फफूंद के वास्तविक कारण का पता लगाने की मदद करें और केवल आप यदि उस जगह को केवल पेंट कर देते हैं, तो इससे समस्या का हल नहीं हो सकेगा।
कुछ महीनों में ही फफूंद वापस आ जायेंगे और इसे अल्पकालिक रूप से ठीक कराने पर आपका पैसा व समय व्यर्थ जायेगा। इन सीलन भरे धब्बों का अच्छी तरह से उपचार कर देने के बाद, आप ऐसे ट्रेंडी वॉलपेपर का चुनाव कर सकेंगे जो आपके संपूर्ण थीम पर ठीक बैठे।
2ण्    अपनी दीवाल की ड्रेसिंग करेंः त्यौहारों के मौसम के दौरान, लोग अल्पकालिक तरीकों जैसे वॉलपेपर और वॉल हैंगिंग्स के जरिए सीलन भरी दीवालों को छिपाने की कोशिश करते हैं। इस स्थिति के स्थायी उपचार के तौर पर, आपको चाहिए कि आप वाटरप्रूफिंग की मरम्मत से जुड़े कदम उठाएं। एक बार ऐसा हो जाने के बाद, आप अपनी दीवालों पर वॉल हैंगिंग्स, फेयरी लाइट्स, वॉल म्यूरल्स एवं पेंटिंग्स से डिजाइन कर सकते हैं। 
3ण्    क्या बाहर की दीवारों पर पड़ने वाली दरारें चिंता का कारण हैं - बाहरी दीवालों पर दरार पड़ने की स्थिति में, अधिकांश हाउसिंग सोसायटीज और गृहस्वामी दरारोें को भरवाकर दोबारा उसे पेंट करवा देते हैं, यह सतही समाधान है और इससे इमारत की वाटरप्रूफिंग आवश्यकताएं पूरी नहीं होती हैं। एक समय के बाद, इन छोटी-छोटी दरारों से होकर इमारत के मूलभूत हिस्सों जैसे-कॉलम्स एवं बीम्स तक नमी चली जाती है, इस प्रकार, इमारत के स्थायीत्व के लिए ये खतरे का निशान हैं।
इसलिए, कोई भी मरम्मत कार्य कराने से पूर्व पूरी इमारत की जांच कर लेना आवश्यक होता है, ताकि आप समस्या की मूल प्रकृति को समझ सकें और भविष्य में इस तरह की घटनाएं फिर से न हों, इस हेतु बचाव संबंधी उपाय कर सकें।
अच्छी तरह से की गई वाटरप्रूफिंग सुनिश्चित करती है कि भावी नुकसान का खतरा समाप्त हो गया है और घर का सही आकलन सुरक्षित है। इन कुछ छोटे-छोटे उपायों को अपनाकर, आप अपने घर को न केवल त्यौहारों के मौसम के लिए बल्कि आने वाले वर्षों के लिए भी तैयार कर सकते हैं!

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad