कंपनी सचिवों के 47 वें राष्ट्रीय कन्वेंशन के दूसरे दिन कई विषयों पर गहन चर्चा - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, November 15, 2019

कंपनी सचिवों के 47 वें राष्ट्रीय कन्वेंशन के दूसरे दिन कई विषयों पर गहन चर्चा



ICSI National Convention Day 2


जयपुर, भारतीय कंपनी सचिव संस्थान की ओर से गुरुवार को जयपुर एग्जीबिशन एंड कन्वेंशन सेंटर में शुरू हुए तीन दिवसीय 47 वें राष्ट्रीय सम्मेलन इसके दूसरे दिन भी कुछ बेहतरीन बौद्धिक चर्चाओं और सत्रों का गवाह बना।

प्रख्यात वक्ताओं में शामिल थे -  राजीव रॉय, प्रोफेसर एक्सएलआरआई इंस्टीट्यूट ऑफ  मैनेजमेंट, बिनोद कुमार होमागाई, सह संस्थापक, वाह मोमोस, जिन्होंने विभिन्न पैनल डिस्कशन में भाग लिया और विभिन्न विषयों पर अपने बहुमूल्य ज्ञान को साझा किया। यह न केवल संस्थान के लिए बल्कि इसके प्रत्येक सदस्यों, छात्रों और हितधारकों के लिए एक वार्षिक मेगा संगठन है ।

इस राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन ‘‘एम्पावरिंग न्यू इंडिया-रिफॉर्म, परफॉर्म, ट्रांसफॉर्म’’  के थीम पर है । राष्ट्रीय सम्मेलन के विभिन्न तकनीकी सत्र कोर विषय के विचार और सुझावो से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर आधारित हैं।

कंपनी सचिवों के 47 वें राष्ट्रीय अधिवेशन के दूसरे तकनीकी सत्र ने उप-विषय स्टार्ट-अप्स; मॉडर्न कैटालिस्ट्स ऑफ ग्रोथ एंड डेवलपमेंट पर ध्यान केंद्रित किया। देश में सालाना आधार पर 1000 से अधिक स्टार्ट-अप्स को शामिल करने और इन संस्थाओं द्वारा प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार के अवसर पैदा किए जाने के साथ, स्टार्ट-अप के भविष्य और उसमें मौजूद पेशेवरों की उभरती भूमिका पर  चर्चा केंद्रित रही ।

कंपनी सचिवों के 47 वें राष्ट्रीय अधिवेशन का तीसरा तकनीकी सत्र उप-विषय इमर्जिंग टेक्नोलॉजीज एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस: बून या बेन, पर केंद्रित था। सत्र ने दीर्घकालिक में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के संभावित प्रभाव पर विचार-विमर्श किया और पेशेवर परिदृश्य में भी विचार-विमर्श किया ।

इन तकनीकी सत्रों के अलावा ‘लीडरशिप बियॉन्ड जेंडर’ विषय पर एक पैनल डिस्कशन आयोजित किया गया,जिसका उद्देश्य लैंगिक समानता की वास्तविकताओं को समझना है और विभिन्न पृष्ठभूमि की महिलाओं ने नेतृत्व के पदों को हासिल करने के लिए कैसे  ताकत का प्रदर्शन किया था ।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad