प्रमोद कुमार अग्रवाल का (सिब्जो) वर्ल्ड ज्वेलरी कॉन्फ़ेडरेशन के पहले भारतीय उपाध्यक्ष के रूप में चयन - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, November 29, 2019

प्रमोद कुमार अग्रवाल का (सिब्जो) वर्ल्ड ज्वेलरी कॉन्फ़ेडरेशन के पहले भारतीय उपाध्यक्ष के रूप में चयन



Pramod Agrawal elected as first-ever Indian Vice President of CIBJO


प्रमोद कुमार अग्रवाल (बाएं), जेम एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल (GJEPC) के चेयरमैन, CIBJO अध्यक्ष गेटानो कैवलियरी के साथ, पिछले साल कोलंबिया के बोगोटा में CIBJO कांग्रेस के दौरान।

मुंबई। जेम्स एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल (GJEPC) के वर्तमान अध्यक्ष प्रमोद कुमार अग्रवाल, भारतीय उद्योग के पहले ऐसे सदस्य हैं जो वर्ल्ड ज्वेलरी कॉन्फेडरेशन के तीन उपाध्यक्षों में से एक चुने गए हैं। CIBJO के अध्यक्ष गेटानो कैवलियरी द्वारा उन्हें नामित किया गया था और इस फैसले की पुष्टि  18-20 नवंबर को बहरीन में आय़ोजित CIBJO कांग्रेस संगठन की महासभा और निदेशक मंडल की बैठक में किया गया।
 अग्रवाल अंतर्राष्ट्रीय कलर्ड जेम स्टोन एसोसिएशन (ICA) व अमेरिकन जेम ट्रेड एसोसिएशन (AGTA) के पूर्व अध्यक्ष औऱ जेमोलॉजिकल इंस्टीट्यूट ऑफ अमेरिका (जीआईए) के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स रोलांड नफुटुले तथा डी बियर ग्रुप इंस्टीट्यूट ऑफ डायमंड्स औऱ डी बियर ग्रुप इंडस्ट्री सर्विसेज के अध्यक्ष यूनाइटेड किंगडम के जोनाथन केंडल के साथ दो साल तक उपाध्यक्ष पद का कार्यभाल संभालेंगे। डॉ. कैवेलियरी को CIBJO अध्यक्ष के रूप में एक और कार्यकाल के लिए भी चुना गया है।
मूल रूप से पेरिस में 1926 में स्थापित, CIBJO (कन्फेडरेशन इंटरनेशनल डी ला बिजरौटी, जोआलेरी, ऑर्फेव्रे देस डायमेंन्ट्स, पर्ल्स एट पियरेस) एक वैश्विक संगठन है जो लगभग 45 देशों के राष्ट्रीय संगठनों से बनी है, जो उद्योग जगत से जुड़ी कई बड़ी कंपनियों औऱ अंतरराष्ट्रीय संगठनों से वाणिज्यि सदस्यों का प्रतिनिधित्व करती है। यह एकमात्र विश्वव्यापी निकाय है जो अधिक से अधिक आभूषण उद्योग वितरण श्रृंखला के साथ, खदान से बाजार तक सभी क्षेत्रों में सक्रिय है।
CIBJO का उद्देश्य सद्भाव को प्रोत्साहित करना, आभूषण उद्योग में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को बढ़ावा देना और उन मुद्दों पर विचार करना है जो दुनिया भर में व्यापार की मुख्य चिंताएं हैं। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण है उपभोक्ता विश्वास की रक्षा करना। इसे प्राप्त करने के लिए, इसने उद्योग में सार्वभौमिक मानकों और शब्दावली के लक्ष्य को आगे बढ़ाने के लिए अपनी ब्लू बुक प्रणाली विकसित की है। आज यह उद्योग के मानकों का सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला सेट है। हीरे, रंगीन रत्न, मोती, कीमती धातुएं, जेमोलॉजिकल प्रयोगशालाएं, और जिम्मेदार सोर्सिंग के लिए ब्लू बुक्स का उपयोग किया जा रहा है।
आभूषण उद्योग के इतिहास में 2006 में एक मील का पत्थर दर्ज किया गया, जब CIBJO हीरे, रत्न और आभूषण क्षेत्रों में पहला और एकमात्र संगठन बन गया था, जिसे संयुक्त राष्ट्र की आर्थिक और सामाजिक परिषद (ECOSOC) के साथ आधिकारिक परामर्श का दर्जा प्राप्त हुआ। उसी वर्ष इसे UN ग्लोबल कॉम्पेक्ट के सदस्य के रूप में स्वीकार किया गया।
डॉ. कैवलियरी ने कहा "मुझे खुशी है कि प्रमोद ने नामांकन स्वीकार कर लिया और यह कि CIBJO सदस्यों और निर्देशकों द्वारा इतनी आसानी से स्वीकार कर लिया गया है। " उन्होंने कहा, '' भारत ने उद्योग के लगभग सभी क्षेत्रों में जो प्राथमिक भूमिका निभाई है, उसे देखते हुए यह नितांत आवश्यक है कि हमारे संघ के नेतृत्व में देश का उचित प्रतिनिधित्व हो। अपने कौशल और विशाल अनुभव के साथ प्रमोद कुमार अग्रवाल आवश्यक भूमिका को निभाने के लिए सही व्यक्ति हैं। मुझे विश्वास है कि वह हमारे द्वारा किए जाने वाले महत्वपूर्ण कार्य में महत्वपूर्ण योगदान देगें। ”
  अग्रवाल ने कहा, "मुझे लगता है कि यह मेरे लिए गर्व की बात है कि CIBJO ने मुझे यह कार्यभार संभालने का अवसर दिया। अंतराष्ट्रीय स्तर की  राष्ट्रीय निकाय जीजेईपीसी के अध्यक्ष के रूप में रत्न तथा आभूषण उद्योग के विकास के लिए क्रियान्वित कई योजनाओं का मैं हिस्सा रहा हूं। यह अच्छे काम को आगे ले जाने का एक अवसर है। मैं CIBJO के अध्यक्ष, डॉ .गेटानो कैवलियरी और अन्य सभी CIBJO सदस्यों को धन्यवाद देता हूं। उनके साथ-साथ, मेरी कोशिश उस बदलाव को लाने की होगी, जिसे उद्योग देखना चाहते हैं। ”
वर्तमान जीजेईपीसी अध्यक्ष प्रमोद कुमार अग्रवाल ने कई वर्षों तक संगठन की प्रशासन समिति के सदस्य के रूप में कार्य किया और राष्ट्रीय अध्य़क्ष चुने जाने से पहले राजस्थान में जीजेईपीसी के क्षेत्रीय अध्यक्ष थे।
इसके अलावा वह जयपुर के सबसे प्रमुख रत्न और आभूषण निगम में से एक, डेरेवाला इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष हैं, जिसे दुनिया भर में भारत के रंगीन रत्न उद्योग के केंद्र के रूप में जाना जाता है।
उन्होंने वर्ष 1986 में सिल्वर ज्वैलरी के साथ शुरूआत की थी। एक सामान्य शुरूआत के साथ, डेरवाला उद्योग एक बहुआयामी कंपनी के रूप में विकसित हुआ, और आज चार इकाइयों के तहत तकरीबन 1,500 लोगों को रोजगार प्रदान करता है।
जो भारत सहित विदेश में सोने के आभूषण, चांदी के आभूषण और फैशन ज्वैलरी का उत्पादन और आपूर्ति करते हैं।






No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad