तीसरी तिमाही में एस्सार पोर्ट के कार्गो हैंडलिंग में 20 प्रतिशत से अधिक वृद्धि दर्ज - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Thursday, January 30, 2020

तीसरी तिमाही में एस्सार पोर्ट के कार्गो हैंडलिंग में 20 प्रतिशत से अधिक वृद्धि दर्ज




 Essar Ports grows cargo handling by over 20 percent in Q3 FY2019-20

मुंबई,  देश के पूर्वी और पश्चिमी तटों पर चार टर्मिनलों का संचालन करने वाले एस्सार पोर्ट्स के कारोबार ने चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 14.02 मिलियन टन (एमटी) के थ्रूपुट के साथ कार्गो वॉल्यूम में 20.09 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है।   
कंपनी की परफॉर्मेंस पर टिप्पणी करते हुए एस्सार पोर्ट्स के एमडी और सीईओ राजीव अग्रवाल ने कहा, ‘‘समुद्री तटवर्ती क्षेत्र में खपत में उल्लेखनीय वृद्धि सर्वाधिक महत्वपूर्ण वृद्धि चालक रही है। बड़े पैमाने पर सलैया (पश्चिमी तट) और विजाग पोर्ट (पूर्वी तट) में विकास हमारे टर्मिनलों के कारण हुआ है। उन्नयन और मशीनीकरण के माध्यम से हैंडलिंग की क्षमता बढ़ाने और परिचालन क्षमता बढ़ाने के लिए हमारे निरंतर फोकस ने मजबूत वृद्धि दर्ज करने में मदद की है। हम विश्व स्तरीय सेवाओं को उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं और हमारा ध्यान स्थायी आधार पर सेवाओं में निर्बाध निरंतरता सुनिश्चित करना है।”
दिसंबर-2019 में हजीरा टर्मिनल ने एएम/एनएस इंडिया के लिए कार्गो के उच्चतम स्तर (2 मिलियन टन से अधिक) में से एक को संभाला, तत्कालीन एस्सार स्टील। हजीरा टर्मिनल में किए गए मॉड्यूलर विस्तार के साथ, यह अपने मौजूदा ग्राहकों के लिए बढ़ी हुई मात्रा को संभालने के लिए सुसज्जित है।
विकास के प्रमुख कारक
ऽ हमारे टर्मिनलों में क्षमता विस्तार और मौजूदा ग्राहकों द्वारा क्षमता उपयोग में वृद्धि
ऽ ग्राहकों के लिए स्थायी आधार पर परिचालन दक्षता और उच्च सेवा स्तरों को सुनिश्चित करना
ऽ एक संतुलित कार्गो मिक्स
ऽ पोर्ट अधिकारियों के साथ दीर्घकालिक रियायतें या लाइसेंस समझौतों वाले टर्मिनल
ऽ मौजूदा ग्राहकों के साथ दीर्घकालिक कार्गो हैंडलिंग समझौते, स्थिरता सुनिश्चित करना
ऽ सलैया, विजाग और हजीर में नए ग्राहक को जोड़ना।
एस्सार पोर्ट निजी क्षेत्र में देष के सबसे बड़े बंदरगाह और टर्मिनल डेवलपर्स और ऑपरेटरों में से एक है। इसने तीन भारतीय राज्यों में पांच विश्व स्तरीय टर्मिनलों को विकसित करने में 11,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है। वर्तमान में यह 110 एमटीपीए की संयुक्त क्षमता के साथ चार टर्मिनलों का परिचालन करता है, जो भारत की बंदरगाह क्षमता का लगभग 5 प्रतिशत है। कंपनी नॉन-कंटेनराइज्ड बल्क कार्गो स्पेस में अग्रणी स्थिति में है। वित्त वर्ष 19 में 40 मीट्रिक टन के थ्रूपुट पर नजर रखने के बाद, एस्सार पोर्ट्स चालू वित्त वर्ष में 60 मीट्रिक टन से अधिक की उम्मीद कर रहा है।
सभी एस्सार पोर्ट टर्मिनल उन्नत कार्गो हैंडलिंग बुनियादी ढांचे का उपयोग करते हैं और निकट से मध्यम अवधि के दौरान अपनी क्षमता को दोहरी करने के लिए जरूरी इन्फ्रास्ट्रक्चर से लैस हैं। इसलिए कंपनी न केवल कार्गो थ्रूपुट को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करती है, बल्कि क्षमता में भी वृद्धि करती है और 2020 तक देश में 3,130 मीट्रिक टन पोर्ट क्षमता विकसित करने के भारत सरकार के महत्वाकांक्षी लक्ष्य में सार्थक योगदान करती है।
भारत के बाहर, एस्सार की बंदरगाह परिसंपत्तियों में यूके में एक लिक्विड टर्मिनल और मोजाम्बिक के बीरा बंदरगाह परएक कोल बर्थ शामिल है, जो अभी विकास चरण में है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad