एनसीडीईएक्स लिमिटेड ने आईपीओ के लिए सेबी के पास ऑफर डाक्यूमेंट जमा कराए - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Wednesday, February 12, 2020

एनसीडीईएक्स लिमिटेड ने आईपीओ के लिए सेबी के पास ऑफर डाक्यूमेंट जमा कराए


  National Commodity & Derivatives Exchange Limited files DRHP with SEBI



मुंबई।नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (एनसीडीईएक्स या एक्सचेंज) ने 10 रुपए प्रति शेयर (इक्विटी शेयर) की फेस वैल्यू पर आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) जारी करने के लिए सेबी के पास दस्तावेज जमा करा दिए हैं। आईपीओ के माध्यम से कंपनी की 1,000 मिलियन रुपए (फ्रेश इश्यू) जुटाने की योजना है। इसके जरिये उसका 14,453,774 इक्विटी शेयरों के लिए बिक्री का एक प्रस्ताव है, जिसमें शेयरधारक और नए बिक्री प्रस्ताव शामिल हैं
सेलिंग शेयरहोल्डर्स में शामिल हैंः- बिल्ड इंडिया कैपिटल एडवाइजर्स एलएलपी, केनरा बैंक, इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोऑपरेटिव लिमिटेड, इन्वेस्टकॉर्प प्राइवेट इक्विटी फंड जेपी केपिटल सर्विसेज लिमिटेड, नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट, ओमान इंडिया ज्वाइंट इनवेस्टमेंट फंड और पंजाब नेशनल बैंक। बुक रनिंग लीड मैनेजर्स (बीआरएलएम) आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज लिमिटेड और एसबीआई कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड हैं।

नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (एक्सचेंज) भारत में एक प्रमुख कृषि जिंस एक्सचेंज है, जिसका कृषि कमोडिटी सेगमेंट में मार्केट शेयर 78.0 प्रतिशत, 81.5 प्रतिशत, 79.9 प्रतिशत और 78.1 प्रतिशत है, जो औसत दैनिक कारोबार (मूल्य के अनुसार) पर आधारित है (एडीटीवी) छह महीने की अवधि के लिए 30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई, फिस्कल 2019, फिस्कल 2018 और फिस्कल 2017, क्रमशः (स्रोतः सीएआरई रिपोर्ट)। एक्सचेंज ने एडीटीवी (स्रोतः सीएआरई रिपोर्ट) के संदर्भ में, कृषि जिंस डेरिवेटिव बाजार में 2005 से अपनी अग्रणी स्थिति को बनाए रखा है। इसके अलावा, एक्सचेंज एक पेशेवर रूप से प्रबंधित कंपनी है, जो टैक्नोलॉजी द्वारा संचालित है।

30 सितंबर, 2019 तक, एक्सचेंज के नेटवर्क में 380 सदस्य, 13,316 टर्मिनल, नौ डब्ल्यूएसपी, 12 समाशोधन बैंक, 41 वित्तीय संस्थान और 461,619 किसानों का प्रतिनिधित्व करने वाले 246 एफपीओ शामिल थे, जिससे एक बेहतर चक्र को बढ़ावा मिलता है। इसके अलावा, 30 सितंबर, 2019 तक, एनईएमएल के नेटवर्क में 171 मंडियां शामिल थीं और इसमें लगभग 8,900 सदस्य और 7.8 मिलियन किसान थे, जो इसके द्वारा प्रबंधित विभिन्न परियोजनाओं के माध्यम से अपने मंच से जुड़े थे।

कुछ प्रमुख निवेशकों में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई), भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी), नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड), इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर्स को-ऑपरेटिव लिमिटेड (इफको), ओमान इंडिया जॉइंट इनवेस्टमेंट फंड, पंजाब नेशनल बैंक, केनरा बैंक, बिल्ड इंडिया कैपिटल एडवाइजर्स एलएलपी और इन्वेस्टकॉर्प प्राइवेट इक्विटी फंड प् (पहले जिसे आईडीएफसी प्राइवेट इक्विटी फंड प्प्प् के रूप में जाना जाता है) शामिल हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad