आईआईएफएल फाइनेंस ने ‘‘रंगों का मिलन’’ प्रतियोगिता आयोजित की - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Wednesday, April 3, 2019

आईआईएफएल फाइनेंस ने ‘‘रंगों का मिलन’’ प्रतियोगिता आयोजित की





 IIFL Finance raises awareness of social causes with "Rangon Ka Milan" contest

जयपुर . भारत की सबसे बड़ी गैर-बैंकिंग वित्तपोषण कंपनियों में से एक, आईआईएफएल फाइनेंस ने आईआईएफएल फाउंडेशन के साथ मिलकर हाल ही में एक नया सामुदायिक जुड़ाव प्रोग्राम ‘‘आईआईएफएल मिलन’’ आयोजित किया। इस प्रोग्राम का उद्देश्य सामाजिक हित से जुड़े विषयों के प्रति पहल करना और समाज को वापस अवदान देना था।
हाल ही में, 23 मार्च 2019 को, आईआईएफएल ने ‘‘रंगों का मिलन’’ ड्रॉइंग और नारालेखन प्रतियोगिता आयोजित की। यह प्रतियोगिता एक ही दिन में देश भर के 700 से अधिक शहरों व कस्बों में आईआईएफएल की 1240 से अधिक शाखाओं में आयोजित की गई। प्रतियोगिता हेतु कई विषय दिये गये, जैसे- ‘‘स्वस्थ भारत’’, ‘‘शिक्षित बालिका’’ और ‘‘जल संरक्षण’’। विभिन्न आयु समूहों के 39,200 से अधिक लोगों ने प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। इसमें न केवल लोगों की रचनात्मकता को देखा व सम्मानित किया गया, बल्कि सामाजिक हित के विषयों के प्रति जागरूकता भी पैदा की गई। 
सुमित बली, सीईओ, आईआईएफएल फाइनेंस ने कहा, ‘‘आईआईएफएल फाइनेंस एक जिम्मेवार संगठन है और यह अपने प्रमुख लक्ष्यों के मद्देनजर ईएसजी, अर्थात एनवायरमेंटल (पर्यावरणीय), सोशल (सामाजिक) और गवर्नेंस (शासनिक) विषयों पर जोर देता है। आईआईएफएल मिलन हमारे उस समाज के प्रति आभार प्रकट करने की दिशा में एक अन्य कदम है, जिसने पिछले 13 वर्षों में हमें आगे बढ़ने में मदद की है। ‘‘रंगों का मिलन’’ के जरिए, हमने पर्यावरण, बालिका शिक्षा और अच्छे स्वास्थ्य से जुड़े विषयों के प्रति जागरूकता पैदा करने में योगदान दिया है।’’
आईआईएफएल समूह की गैर-बैंकिंग वित्तपोषण शाखा, इंडिया इंफोलाइन फाइनेंस लिमिटेड एक व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण गैर-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी है, जो पब्लिक डिपॉजिट्स स्वीकार नहीं करती है और जो होम लोन, प्रोपर्टी लोन, गोल्ड लोन, वाणिज्यिक वाहन फाइनेंस, प्रतिभूतियों पर लोन, एसएमई बिजनेस एवं माइक्रो-फाइनेंस लोन्स के व्यवसाय में है। आईआईएफएल को क्रिसिल से एए(स्टेबल), इक्रा से एए(स्टेबल) और केयर से एए(पॉजिटिव) की दीर्घकालिक क्रेडिट रेटिंग प्राप्त है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad