भारतीय एक्‍ज़ि‍म बैंक ने सरबा शांति आयोग (एस एस ए) के साथ सहयोग ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Wednesday, August 28, 2019

भारतीय एक्‍ज़ि‍म बैंक ने सरबा शांति आयोग (एस एस ए) के साथ सहयोग ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए




EXIM Bank, India signs MOC with SARBA SHANTI AYOG (SSA)


मुंबई।भारतीय एक्‍ज़ि‍म बैंक  ने  को कोलकाता में सोरबा शांति आयोग (एसएसए) के साथ एक सहयोग ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए। एस एस ए को आर्टिजन क्‍लस्‍टर के बीच प्रशिक्षण एवं क्षमता निर्माण के क्षेत्र में चार दशक से ज्‍यादा का अनुभव है। एस एस ए 100 से ज्यादा उत्‍पादक समूहों से जुड़ा हुआ है। इसमें वि‍भिन्‍न प्रकार के बाजारों में 16 तरह की क्राफ्ट से जुड़े 10,000 कारीगर शामिल हैं। यह संस्‍था इन क्राफ्ट कारीगरों को विभिन्‍न क्षेत्रों जैसे फेयर ट्रेड प्रमाणन, क्षमता निर्माण, नेटवर्किंग एवं सलाहकारी, मार्केटिंग विकास, मार्केटिंग सहायता, डिजाइन एवं उत्‍पाद विकास, तकनीकी सहायता, प्रमाणन एवं अनुपालन, विदेशी बाजार अवसरों का पता लगाना, व्‍यवसाय विकास एवं अन्‍य क्षेत्रों में समाधान मुहैया करा रही है।         
इस सहयोग ज्ञापन पर एक्‍ज़ि‍म बैंक के महाप्रबंधक उत्पल गोखले तथा एस एस ए की सचिव रूपा मेहता द्वारा हस्ताक्षर किए गए। 
एक्‍ज़ि‍म बैंक तथा एस एस ए के बीच उक्‍त सहयोग ज्ञापन से दोनों संस्‍थाओं की ग्रासरूट पहलों को बढ़ावा मिलेगा तथा परस्‍पर सहयोग से दोनों संस्‍थाएं एक साथ मिलकर पारंपरिक तथा व्‍यावसायिक क्राफ्ट को बढ़ावा दे सकेंगी। दोनों संस्‍थाएं विभि‍न्‍न तरह के व्‍यावसायिक अवसरों के जरिए शिल्‍पकारों को स्‍थाई आजीविका मुहैया कराने सहित इसे अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर तक पहुंचाने में भी मदद कर सकती हैं।       
क्षमता निर्माण/ डि‍जाइन विकास कार्यशाला, वित्तीय सहायता तथा विदेशी बाजार तक पहुंच पर फोकस करते हुए ग्रासरूट उद्यमियों को सशक्‍त बनाने संबंधी एक्‍ज़ि‍म बैंक के कार्यक्रमों में प्रसार की दृष्टि से पिछले एक दशक में लगातार वृद्धि हुई है। एक्ज़ि‍म बैंक द्वारा देश के विभिन्‍न क्षेत्रों की कई ग्रासरूट संस्‍थाओं/ उद्यमियों को सहायता प्रदान की गई है। एस एस ए के साथ पार्टनरशिप से ग्रासरूट संस्‍थाओं को आगे भी सहायता करने में मदद मिलेगी। एक्‍ज़ि‍म बैंक का लक्ष्‍य निर्यातों को बढ़ाकर ग्रासरूट उद्यमियों की गरीबी को दूर करना है।       

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad