येस बैंक में कायम है निवेशकों का विश्वास-गिल - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Monday, October 7, 2019

येस बैंक में कायम है निवेशकों का विश्वास-गिल



Yes Bank

मुंबई। येस बैंक के सीईओ रवनीत गिल ने निवेशकों को आश्वस्त किया है कि बैंक का वित्तीय और परिचालन प्रदर्शन अच्छा और स्थिर रहा है और इसकी तरलता की स्थिति में भी सुधार हो रहा है। उन्होंने बैंक के खुदरा व्यापार वृद्धि को और मजबूत करने और एसेट क्वालिटी को स्टेबल बनाए रखने के प्रति बैंक की प्रतिबद्धता को भी दोहराया।
जुलाई-सितंबर 2019 की तिमाही को येस बैंक के ऋण देने के इतिहास में सबसे अधिक आशाजनक बताते हुए श्री गिल ने कहा कि बैंक ने इस अवधि के दौरान पहले की तुलना में अधिक बचत खाते खोले हैं और जमाकर्ताओं और उधारकर्ताओं के विश्वास के साथ बैंक का समग्र कारोबार सामान्य बना हुआ है।
 रवनीत गिल ने कहा, “निवेशक बैंक की वित्तीय सेहत, लगातार मजबूत राजस्व उत्पादन क्षमता, टैक्नोलॉजी के लिहाज से बाजार में अग्रणी की स्थिति और बैंक की प्रतिभा की उच्च गुणवत्ता के बारे में पूरी तरह से आश्वस्त हैं और इसे एक बहुत ही आकर्षक निवेश अवसर के रूप में देखते हैं। हमारी नई फिक्स्ड डिपॉजिट्स में तिमाही-दर-तिमाही 39 प्रतिशत की वृद्धि हुई और हमारी कुल देनदारियाँ पिछली तिमाही के अनुरूप थीं। पहली तिमाही के मुकाबले हमारे सीएएसए में भी 30 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई। इससे पता चलता है कि हमारे जमाकर्ताओं और ग्राहकों का बैंक में विश्वास कायम है।‘‘
 गिल के अनुसार, ‘‘पिछले तीन महीनों में येस बैंक का कारोबार उत्साहजनक रहा है और इस दौरान इसे बैंक के संचालन मॉडल का प्रतिबिंब माना जा सकता है। हम ग्रोथ केपिटल को अपने अगले कदम के रूप में देख रहे हैं और निवेशकों के लिहाज से तीन क्षेत्रों पर हमारी नजर है, ये हैंः- निजी इक्विटी, रणनीतिक और बड़े भारतीय पारिवारिक कार्यालय। बैंक तीन श्रेणियों में से प्रत्येक में निवेशकों के मिले-जुले रुख को देख रहा है, हालांकि निवेशकों की गुणवत्ता और उनकी येस बैंक में गंभीर धन निवेश करने की क्षमता पर कोई सवाल नहीं उठाया जा सकता है।‘‘
येस बैंक पूंजी जुटाने के लिए निजी इक्विटी फंड और पारिवारिक कार्यालयों से बात कर रहा है। बैंक परिचालन चुनौतियों को दूर करने और विकास को बढ़ावा देने की अपनी क्षमता के बारे में किसी भी संदेह को दूर करने के लिए प्रमुख परिचालन मापदंडों पर दूसरी तिमाही के अपने प्रदर्शन को उजागर कर रहा है। इन निवेशकों में से हर एक, परिवार के कार्यालयों के अलावा, एक बड़ी होल्डिंग चाहता है, जो अंततः नियामक पर निर्भर करेगा।
गिल की टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब भारतीय बैंकिंग शेयरों में स्पष्ट कमजोरी नजर आ रही है, जिसमें 12 में से 10 बैंक निफ्टी काउंटरों में गिरावट की गई है। हालांकि, उन्होंने कहा कि बैंक की अंतर्निहित ताकत और बाजार की मौजूदा कीमत के बीच कोई संबंध नहीं है।
जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान, येस बैंक की संपत्ति की गुणवत्ता स्थिर हो गई, भले ही कुछ प्रस्तावों में उम्मीद से कहीं अधिक देरी हुई है। पिछले छह हफ्तों में, बैंक का वैल्यूएशन पहले की तुलना में 300 मिलियन डॉलर अधिक हो गया है और अभी तक स्टॉक प्रदर्शन भी दूसरी दिशा में चला गया है।
 गिल ने कहा, ‘‘किसी कंपनी के संचालन संबंधी प्रदर्शन और उसके शेयर की कीमत के प्रदर्शन पर आम तौर पर लगातार निगाहें रहती हैं, लेकिन कभी-कभी जब सेक्टर तनाव से गुजरते हैं, जैसा कि अब वित्तीय क्षेत्र के मामले में हो रहा है, आपके पास कुछ ऐसे विषम उदाहरण भी होंगे जहां एक कंपनी का परिचालन प्रदर्शन और शेयर की कीमत निराशाजनक होगी।‘‘
इंडियाबुल्स जैसे एनबीएफसी संबंधी संवेदनशील क्षेत्रों में येस बैंक के एक्सपोजर के मुद्दे पर  गिल ने आश्वासन दिया कि चिंता की कोई बात नहीं है और इस खाते का संचालन बकाया था।
उन्होंने कहा, ‘‘“हमें एक दिन की भी देरी नहीं हुई है। पिछले हफ्ते, एक बड़ी चुकौती हुई थी और इसे समय पर पूरा किया गया था। पिछले दो तिमाहियों में, हमने इंडियाबुल्स के एक्सपोजर को 30 प्रतिशत तक कम कर दिया है और यहाँ तक कि यह पर्याप्त कोलेटरल की तुलना में अधिक है।‘‘
वित्त वर्ष 2020 की अंतिम दो तिमाहियों में येस बैंक ने बैलेंस शीट को घटा दिया है और होलसेल बैंकिंग की तुलना में रिटेल बैंकिंग पर अपने जोखिम को फिर से रीअलॉट किया है। इसके अलावा, बैंक ने अच्छी वृद्धि देखी है और लॉयबिलीटी फ्रेंचाइजी को किनारे कर दिया है। नतीजतन, बैंक आराम से सीईटी1 सीमा से ऊपर है, और बड़े पैमाने पर पूंजी संरक्षण और परिसंपत्ति गुणवत्ता को स्थिर करने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।
 रवनीत गिल ने कहा, “महत्वपूर्ण संदेश यह है कि हमारे लिए पूंजी विकास के लिए है न कि अस्तित्व के लिए। यह पूरी तरह से विकास और परिवर्तनकारी है। हम विकास की अपनी खोज में एसेट क्वालिटी या केपिटल कंजर्वेशन पर कोई समझौता नहीं करेंगे। बैंक भविष्य के लिए भविष्य पूंजी का निर्माण जारी रखेगा। संक्षेप में, ऐसा कुछ भी नहीं है जो हमें ऐसा करने और आगे बढने से रोकता है।‘‘


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad