आईएफसी महिंद्रा फाइनेंस को 200 मिलियन डॉलर का सहयोग देगा - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, December 3, 2019

आईएफसी महिंद्रा फाइनेंस को 200 मिलियन डॉलर का सहयोग देगा



 IFC to invest $200 Mn in Mahindra Finance to Boost MSME Lending





महिला उद्यमियों को 100 मिलियन डॉलर का सहयोग दिया जायेगा

नई दिल्ली । वर्ल्ड बैंक समूह के घटक, आईएफसी महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (महिंद्रा फाइनेंस) को 200 मिलियन डॉलर का सहयोग देगा। इसका उद्देश्य कम-आय वाले राज्यों में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) के लिए वित्तपोषण का ठोस आधार तैयार करना है। इसमें से कम-से-कम 100 मिलियन डॉलर का सहयोग महिलाओं द्वारा चलाये जा रहे एमएसएमई को दिया जायेगा।
आईएफसी ने अपने स्वयं के खाते से 75 मिलियन डॉलर का निवेश किया है और बाकी 125 मिलियन डॉलर के लिए समानांतर ऋण हेतु प्रयासरत है। महिलाओं के लिए दिये जाने वाले 100 मिलियन डॉलर का सहयोग आईएफसी-गोल्डमैन सैच्स वुमेन एंट्रेप्रिन्योरर्स ऑपर्च्युनिटी फैसिलिटी की ओर से संयुक्त वित्तपोषण के रूप में किया जायेगा।
महिंद्रा फाइनेंस ने इसमें 225 मिलियन डॉलर का वचन दिया है।नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनीज (एनबीएफसी), भारत के एमएसएमई क्षेत्र के लिए ऋण का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। इंडस्ट्रीयल वैल्यू चेन्स में इस क्षेत्र का प्रमुख योगदान है और इसमें अर्द्धकुशल एवं अकुशल कामगारों सहित 124 मिलियन लोगों को रोजगार मिला है। औद्योगिक उद्यमों में 80 प्रतिशत से अधिक एमएसएमई हैं और कुल निर्यात में इस क्षेत्र का 45 प्रतिशत से अधिक योगदान है। उनके सामने सबसे बड़ी बाधा वित्तपोषण को लेकर है। वर्ष 2018 में आईएफसी द्वारा कराये गये एक अध्ययन के अनुसार, अनुमानतः भारत के एमएसएमई के लिए कुल 397.5 बिलियन डॉलर ऋण का अभाव है, जो कि जीडीपी का लगभग 15 प्रतिशत है। निम्न आय वाले राज्यों में एमएसएमई के वित्तपोषण की समस्या अधिक गंभीर है। महिलाओं द्वारा चलाये जाने वाले महिलाओं के लिए लक्षित ऋण और भी कम है।
आईएफसी, साउथ एशिया के मैनेजर, फाइनेंशियल इंस्टीट्युशंस ग्रुप, हेमलता महालिंगम ने कहा, ‘‘एमएसएमई के लिए वित्तीय सेवाओं को बढ़ाने के लिए, आईएफसी व्यवस्थित रूप से भारत के एनबीएफसी क्षेत्र को सहयोग देता रहा है। यद्यपि ग्रामीण एवं महिलाओं द्वारा संचालित उद्यमों की वित्तीय आवश्यकताओं में भारी अंतर नहीं है, लेकिन वित्तीय समावेशन का स्तर उच्च है। डेडिकेटेड जेंडर लाइन और अपहुंच क्षेत्रों पर ध्यान दिये जाने से इन अंतरों को दूर करने में मदद मिलेगी और महिलाओं एवं निम्न-आय वाले समूहों में निवेश की वाणिज्यिक व्यवहार्यता प्रदर्शित होगी।’’
महिंद्रा फाइनेंस ग्रामीण और अर्ध-शहरी ग्राहकों को वाहन, ट्रैक्टर और कृषि उपकरण वित्तपोषण सहित वित्तीय समाधान प्रदान करता है। कंपनी देश भर में डिजिटल रूप से और साथ ही ऋण वितरण जैसे पहल के माध्यम से 1,1,300 से अधिक शाखाओं के भौतिक नेटवर्क के माध्यम से इनका उद्धार करती है। इसने भारत के 370,000 से अधिक गांवों में 6.4 मिलियन से अधिक ग्राहकों की उद्यमशीलता की आकांक्षाओं को हवा दी है और 10 बिलियन अमरीकी डालर से अधिक के प्रबंधन (एयूएम) के तहत ग्रामीण और अर्ध-शहरी भू-क्षेत्रों में क्रेडिट बढ़ाने के लिए इस नए फंडिंग का उपयोग किया जाएगा, जो कि स्वनिर्धारित है।
महिंद्रा फाइनेंस के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक, रमेश अय्यर ने कहा, ‘‘महिंद्रा फाइनेंस 25 वर्षों से अधिक समय से ग्रामीण समुदायों में समावेशी विकास को गति दे रहा है। इन बाजारों में हमारे अनुभव से पता चलता है कि वास्तविक वित्तीय समावेशन हासिल करने के लिए, आर्थिक रूप से सेवा-वंचित सेगमेंट्स के लिए औपचारिक ऋण की सुलभता अत्यावश्यक है। आमदनी के लिए और विशेषकर महिलाओं एवं कम आय वाले परिवारों के लिए ऋण की उपलब्धता से वित्तीय समावेशन को और गति मिलेगी।’’
आईएफसी एनबीएफसी अंतरिक्ष में शुरुआती संस्थागत निवेशकों में से एक था और उसने सफलतापूर्वक कई परिसंपत्तियों के वित्तपोषण में एनबीएफसी 2018 का समर्थन किया है, आईएफसी ने किसानों के लिए ट्रैक्टर, वाणिज्यिक वाहन और अन्य उपकरण खरीदने के लिए ऋण बढ़ाने के लिए महिंद्रा फाइनेंस में 100 मिलियन डॉलर का निवेश किया। खेती। आईएफसी ने ग्रामीण गरीबों को आवास ऋण के लिए महिंद्रा रूरल हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड में 25 मिलियन डॉलर के बराबर निवेश किया। महिंद्रा फाइनेंस और एमआरएचएफएल दोनों 20.7 बिलियन डॉलर महिंद्रा फाइनेंस का एक हिस्सा है, जिसका आईएफसीके साथ संबंध 1963 तक चला जाता है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad