बजाज एनर्जी लिमिटेड ने आइपीओ के लिए सेबी के पास डीआरएचपी सौंपा - Karobar Today

Breaking News

Home Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, April 9, 2019

बजाज एनर्जी लिमिटेड ने आइपीओ के लिए सेबी के पास डीआरएचपी सौंपा




Bajaj Energy filing its DRHP with SEBI for Rs. 5,450 cr IPO


नई दिल्ली। बजाज एनर्जी लिमिटेड (बीईएल) ने ललितपुर पावर जनरेशन कंपनी लिमिटेड (एलपीजीसीएल), उत्‍तर प्रदेश में सबसे बड़ी निजी क्षेत्र की तापीय विद्युत उत्‍पादन कंपनियों में से एक, (स्रोत क्रिसिल रिसर्च) सेबी के पास डीआरएचपी सौंपा है।
बीईएल का भारत में तापीय बिजली संयंत्रों को विकसित करने, उनका वित्‍त पोषण एवं परिचालन करने का प्रमाणित रिकॉर्ड रहा है। इनकी कुल सकल इंस्‍टॉल्‍ड क्षमता 2,430 मेगावाट की है जिसमें 90 मेगावाट के पांच परिचालनरत संयंत्रों में 450 मेगावाट शामिल है जिसका स्‍वामित्‍व एवं प्रबंधन बीईएल (“बीईएलपावर प्‍लांट्स”) द्वारा किया जाता है और 1,980 मेगावाट का स्‍वामित्‍व एवं प्रबंधन एलपीजीसीएल (“एलपीजीसीएल पावर प्‍लांट”) द्वारा किया जाता है और बीईएल निर्गम से मिलने वाली रकम से पूरी तरह से इसका अधिग्रहण करने का इरादा रखती है (“एलपीजीसीएल अधिग्रहण”) ।  
आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आइपीओ) में बजाज एनर्जी लिमिटेड (“कंपनी) के 10 रुपये सममूल्‍य के 54,500 मिलियन इक्विटी शेयर (“ऑफर”) शामिल हैं।इसमें कंपनी द्वारा 51,500 मिलियन रुपये तक का ताजा निर्गम (“ताजा निर्गम”) और बजाज पावर वेंचर्स लिमिटेड द्वारा 3,000 मिलियन रुपये के इक्विटी शेयरों की बिक्री की पेशकश (“प्रवर्तक शेयरधारक” और इस तरह का निर्गम “ऑफर फॉर सेल”) शामिल है।
ताजा निर्गम से मिलने वाली शुद्ध रकम का उपयोग निम्‍न में करना प्रस्‍तावित है : (i) बीपीवीपीएल एवं बीएचएसएल से एलपीजीसीएल (“एलपीजीसीएल शेयर्स”) के 10 रुपये सम मूल्‍य के 69,936,900 इक्विटी शेयरों की खरीदारी; और (ii) आम कॉर्पोरेट उद्देश्‍यों के लिए।
एडलवीस फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड, आइआइएफएल होल्डिंग्‍स लिमिटेड और एसबीआइ कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड इस निर्गम के लिए बुक रनिंग लीड मैनेजर्स हैं। आइडीबीआइ कैपिटल मार्केट्स एंड सिक्‍युरिटीज लिमिटेड निर्गम के को-बुक रनिंग लीड मैनेजर्स हैं।
इक्विटी शेयरों को बीएसई एवं एनएसई पर सूचीबद्ध किया जायेगा।

बजाज एनर्जी लिमिटेड के विषय में  
बजाज एनर्जी लिमिटेड (बीईएल), ललितपुर पावर जनरेशन कंपनी लिमिटेड (एलपीजीसीएल) के साथ, उत्‍तर प्रदेश में सबसे बड़ी निजी क्षेत्र की तापीय उत्‍पादन कंपनियों में से एक है (स्रोत क्रिसिल रिसर्च) । बीईएल का भारत में तापीय बिजली संयंत्रों को विकसित करने, उनका वित्‍त पोषण एवं परिचालन करने का प्रमाणित रिकॉर्ड रहा है। इनकी कुल सकल इंस्‍टॉल्‍ड क्षमता 2,430 मेगावाट की है जिसमें जिसमें 90 मेगावाट के पांच परिचालनरत संयंत्रों में 459 मेगावाट शामिल है जिसका स्‍वामित्‍व एवं प्रबंधन बीईएल (“बीईएलपावर प्‍लांट्स”) द्वारा किया जाता है और 1,980 मेगावाट का स्‍वामित्‍व एवं प्रबंधन एलपीजीसीएल (“एलपीजीसीएल पावर प्‍लांट”) द्वारा किया जाता है और बीईएल निर्गम से मिलने वाली रकम से पूरी तरह से इसका अधिग्रहण करने का इरादा रखती है (“एलपीजीसीएल अधिग्रहण”) ।
बीईएल पावर प्‍लांट्स के लिए सकल इंस्‍टॉल्‍ड क्षमता 2,430 मेगावाट है और एलपीजीसीएल पावर प्‍लांट दीर्घकालिक बिजली खरीदी अनुबंध (पीपीए) के तहत पूरी तरह अनुंबधित है। इसने उत्‍तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (यूपीपीसीएल) के माध्‍यम से राज्‍य सरकार के स्‍वामित्‍व वाली कुछ खरीदियों में प्रवेश किया है। 31 मार्च 2018 को समाप्‍त वित्‍तीय वर्ष में, बीईएल पावर प्‍लांट्स एवं एलपीजीसीएल पावर प्‍लांट के पीपीए की शेष औसत अवधि क्रमश: 18 वर्ष एवं 231 वर्ष है।
बीईएल और एलपीजीसीएल दोनों ने बीईएल पावर प्‍लांट्स और एलपीजीसीएल पावर प्‍लांट को कोयले की आपूर्ति करने के लिए सेंट्रल कोल फील्‍ड्स लिमिटेड जोकि कोल इंडिया लिमिटेड की अनुषंगी है, के साथ दीर्घ-कालिक ईंधन आपूर्ति अनुंबध किया है। इसके अतिरिक्‍त, एलपीजीसीएल ने कोयले की आपूर्ति के लिए कोल इंडिया लिमिटेड की दूसरी अनुषंगियों के साथ भी ईंधन आपूर्ति अनुबंध किये हुये हैं।
बीईएल पावर प्‍लांट्स 2012 से पूरी तरह काम कर रहे हैं और इन्‍हें काम करते हुये 6 से अधिक साल हो चुके हैं। 31 मार्च, 2016, 2017 एवं 2018 को समाप्‍त हुये वर्ष के लिए बीईएल पावर प्‍लांट्स का औसत संयंत्र उपलब्‍धता फैक्‍टर परसंटेज क्रमश: 85.52%, 85.48% और 87.12% था।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad